GDP का फुल फॉर्म ‘Gross Domestic Product’ यानि की सकल घरेलु उत्पाद होता है।

किसी भी तय समय में एक साल में किसी भी देश या आर्थिक व्यवस्था में तैयार होने वाले उत्पाद और सेवा को अगर मिला दिया जाये और उसकी कीमत मार्किट के हिसाब से लगा दी जाए तो, तो उसे ही उस देश की आर्थिक व्यवस्था की GDP यानि ‘Gross Domestic Product’ कहा जाता है।

GDP मुख्यरूप से 3 चीजों  बेस्ड होती है। पहला कृषि (Agriculture), दूसरा उद्दोग (Industry), और तीसरा सेवा (Service) और इन तीनो फील्ड में उत्पादन बढ़ने या घटने की औसत के आधार पर GDP तय होती है।

GDP में सिर्फ घरेलू यानि डोमेस्टिक सामानों को ही गिना जाता है। मतलब जो चीजे हमारे देश में बनी होती है सिर्फ उसी की वैल्यू को GDP में जोड़ा जाएगा।

किसी देश की अर्थव्यवस्था की हालत कैसी है यह जानने का सबसे अच्छा तरीका है GDP .

GDP एक नंबर होता है जो बताता है कि देश की आर्थिक स्तिथि कैसी है। और साथ ही आपको बता दें कि GDP एक निश्चित समय के लिए आमतौर पर 1 साल के लिए कैलकुलेट की जाती है।

GDP

GDP को कैलकुलेट करने के बाद जो नंबर आता है, तो उस नंबर से अलग अलग देशों की GDP की तुलना की जाती है।

हमारे ब्लॉग पर विजिट करे और ऐसी और वेब स्टोरीज देखें निचे क्लिक करे