बिजली का आविष्कार कैसे हुआ  Electricity ka Avishkar Kaise Huya

असलमे बिजली का आविष्कार नहीं बल्कि खोज हुई थी। खोज और आविष्कार में अंतर है। अगर कोई चीज प्रकृति में पहले से मौजूत है और उसे किसी इंसान ने खोज निकाला है तो हम कहेंगे कि इसकी खोज हुई है। और अगर कोई चीज प्रकृति में पहले से मौजूत नहीं है और किसी इंसान के द्वारा बनाया गया है तो हम कहेंगे कि इसका आविष्कार हुआ है।

पहले DC करंट की खोज हुई थी और इसके बाद इसी के आधार पर AC करंट का आविष्कार हुआ था।

बिजली का खोज या आविष्कार किसी एक समय में किसी एक इंसान के द्वारा नहीं हुआ था। इसकी खोज के बाद से पीढ़ी दर पीढ़ी कई साइंटिस्ट द्वारा इसमें सुधार किया गया और इसके बनाने के तरीकों का आविष्कार किया गया।

बिजली का आविष्कार कैसे हुआ जाने पूरा इतिहास – डीसी (DC) करंट की खोज कैसे हुई जानने के लिए निचे क्लिक करे 

सन 1878 में थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब का आविष्कार किया। इसके बाद घरों और फैक्टरियों में डीसी करंट का इस्तेमाल होने लगा। एडिसन की अपनी एक डीसी करंट प्रोडक्शन की कंपनी भी थी जिसमें वह बड़े-बड़े डीसी जनरेटर की मदद से डीसी करंट का प्रोडक्शन करते थे और उसे घरों और फैक्टरियों को डीसी करंट सप्लाई करते थे।

महान वैज्ञानिक निकोला टेस्ला ने AC करंट का आविष्कार कैसे किया?

बिजली के आविष्कार के बारे में अच्छे से समझने के लिए निचे क्लिक करे