मोबाइल इंजीनियर कैसे बने? | Mobile Engineer Kaise Bane?

मोबाइल इंजीनियर कैसे बने (Mobile Engineer Kaise Bane): आज अगर हम में से किसी से भी यह पूछा जाए कि आपकी मोस्ट इम्पोर्टेन्ट, मोस्ट फेवरेट बहुत ही कमाल की वह चीज क्या है? तो ज्यादातर लोगों का जवाब या तो मोबाइल फ़ोन ही होगा। तभी तो आज के टाइम में अगर कोई बिना स्मार्टफोन के नजर आ जाए तो हैरान हुए बिना नहीं रहा जा सकता। क्यों कि अब स्मार्टफोन ही सबके लिए खासम खास दोस्त बन चूका है। लेकिन क्या आप इसका रीज़न जानते हैं कि मोबाइल फ़ोन हमारे जिंदगी में इतनी ज्यादा इम्पोर्टेंस क्यों रखने लगा है। वह इसलिए क्योंकि स्मार्टफोन हमें बहुत से इंटरेस्टिंग एप्लीकेशन ऑफर करता है जो लर्निंग और एंटरटेनमेंट दोनों पर ही आसानी से प्रोवाइड करा देते हैं और यह यूजर फ्रेंडली भी होते हैं इसलिए इन्हे हर कोई पसंद करता है। और बड़ी आसानी से एजुकेशनल पर्पस से ले करके एक एंटरटेनमेंट पर्पस तक इसका यूज़ कर पाता है। तो जब मोबाइल इतना पॉपुलर है और इतना जरुरी भी तो कैसा रहे कि करियर ही मोबाइल इंजीनियरिंग में बनाया जाए। और यह एक बहुत ही अच्छा आईडिया हो सकता है लेकिन तब जब आपका इंटरेस्ट मोबाइल फोन्स और इससे रिलेटेड टेक्नोलॉजी में हो। क्योंकि इसका स्कोप तो काफी है और टेक इंडस्ट्री के हॉटेस्ट फ़ील्ड्स में से एक है मोबाइल इंजीनियरिंग। लेकिन आपका इसमें इंटरेस्ट होना सबसे ज्यादा जरुरी है। ऐसे में अगर आप मोबाइल फ़ोन्स के यूज़ करने के अलावा इस फील्ड में अपनी नॉलेज और परफॉरमेंस बढ़ाना चाहते हैं और एक इंटरेस्टिंग और सिक्योर करियर का इरादा रखते हैं तो मोबाइल इंजीनियरिंग आपके लिए एक अच्छा करियर साबित हो सकता है। और मोबाइल इंजीनियरिंग बनने के लिए क्या क्राइटेरिया होगा, क्या रेस्पॉन्सिबिलिटीज़ होगी, कौन सा प्रोसेस होगा और सैलरी पैकेज क्या होगा यह सारी जानकारी आपको इस पोस्ट में पता चल जाएगी।

Mobile Engineering क्या होती है?

मोबाइल इंजीनियरिंग इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग का एक मेजर फील्ड है। यह एक ऐसी साइंस है जो इनफार्मेशन प्रोसेसिंग और ट्रांस्मिशन के लिए मोबाइल हार्डवेयर सॉफ्टवेयर और सिस्टम की डिजाइनिंग और इम्प्लीमेंटेशन से डील करती है। इंडिया में मोबाइल इंजीनियरिंग कोर्सेज में से टाइम के साथ बहुत सरे चैंजेस देखे गए हैं। क्यों कि टेलीफोन से शुरू करके मोबाइल टेक्नोलॉजी तक पहुँचने के इस सफर में कम्युनिकेशन के बहुत सारे रूप बदले हैं और फिर स्मार्टफोन्स की बढ़ती पॉपुलैरिटी ने मोबाइल इंजीनियरिंग फील्ड को वर्ल्डवाइड फैला दिया है  इसलिए इस फील्ड में आज युथ के लिए बहुत सारे एम्प्लॉयमेंट ऑपोर्चुनिटीज़ आने लगे हैं।

एक Mobile Engineering की क्या क्या रेस्पॉन्सिबिलिटीज़ होती है?

एक मोबाइल इंजीनियर स्मार्टफोन्स और दूसरी मोबाइल डिवाइसेस के लिए सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स को डिज़ाइन, डेवेलोप और इम्प्लीमेंट करती है। वह Android या iOS जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम में स्पेशलाइस्ट होता है। सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन यानि एप्स बिल्ड करना और डेवेलोप करना मोबाइल इंजीनियर की ही रिस्पांसिबिलिटी होती है। मोबाइल इंजीनियर्स, डिज़ाइनर्स, आरएनडी एनालिसिस के क्लोज कॉलबॉरशन में काम करता है।

एक मोबाइल इंजीनियर जिस टास्क कम्पलीट करने के लिए रेस्पोंसिबल होता है वह है – मोबाइल एप्लीकेशन डेवेलोप करना, प्रोब्लेम्स को ट्रबलशूट करना, सॉफ्टवेयर और ऍप्लिकेशन्स को अपडेट करना और हार्डवेयर को डिज़ाइन करने जैसे टास्क।

ऐसे मेजर रिस्पांसिबिलिटीज़ और टास्क को पूरा करने के लिए एक मोबाइल इंजीनियर के पास इंजीनियर या कंप्यूटर प्रोग्रामिंग बैकग्राउंड होना चाहिए। कॉमन प्रोग्रामिंग लैंगुएजेस पर उसकी कमांड्स होनी चाहिए और अगर मोबाइल प्लेटफार्म पर ऑटोमेटेड टेस्टिंग टूल्स का एक्सपीरियंस भी हो तो वह काफी हेल्पफुल रह सकता है। यानि की सक्सेसफुल मोबाइल इंजीनियर बनने के लिए आपके पास रिक्वायर्ड एजुकेशन होनी चाहिए। आपको मोबाइल प्लेटफार्म जैसे iOS, Android और Windows फ़ोन में एक्सपर्टीज हासिल होनी चाहिए। आपके पास Java, Objective-C, SQL और Java Script की नॉलेज होनी चाहिए, आपके पास मोबाइल एप्लीकेशन जैसे PhoneGap और Sencha की स्ट्रांग नॉलेज होनी चाहिए। इसके अलावा UX और UI की अच्छी नॉलेज होना भी जरूर है।

इन टेक्नीकल स्किल्स के अलावा मोबाइल इंजीनियर के पास कम्युनिकेशन्स स्किल्स, एनालिटिक थिंकिंग, प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स और पेसेंस का होना भी काफी जरुरी होता है।

Mobile Engineer बनने के लिए आपको क्या करना होगा?

मोबाइल इंजीनियर बनने के लिए आपके पास कंप्यूटर साइंस, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग या ऐसे सिमिलर एजुकेशन का होना जरुरी होगा। मोबाइल इंजीनियर से रिलेटेड बैचलर डिग्री कोर्स में एडमिशन के लिए आपके पास 12th क्लास में साइंस स्ट्रीम का होना जरुरी है जिसमें आपके पास Physics, Chemistry और Mathematics सब्जेक्ट्स हो। और मास्टर डिग्री में एडमिशन के लिए आपके पास इंजीनियरिंग की रेलेवेंट ब्रांच में B.E या B.Tech की डिग्री होनी चाहिए।

यूँ  मोबाइल इंजीनियरिंग में अपना करियर शुरू करने के लिए कॉलेज डिग्री कम्पलसरी नहीं होती है लेकिन इस कॉम्पिटिटिव वर्ल्ड में अगर अपनी पूरी तैयारी के साथ उतरा जाए तो स्टेबल करियर और प्रोग्रेसिव फ्यूचर मिलने के चांसेस बढ़ जाते हैं। इसलिए हायर एजुकेशन को जरूर से प्रेफरेंस दी जानी चाहिए ताकि टॉप टेक कम्पनीज तक आपकी पहुंच बन सके और आपका दायरा भी एंट्री लेवल पोजीशन से कई आगे जा सके।

मोबाइल इंजीनियरिंग कोर्स कम्पलीट करने के बाद आप मोबाइल सॉफ्टवेयर डेवलपर बन जायेंगे और फिर मोबाइल इंजीनियरिंग के तौर पर अपने करियर की शुरुवात भी कर पाएंगे। इस फील्ड के कुछ पॉपुलर कोर्सेज के नाम आपको पता होने चाहिए ताकि आप इनमें से बेस्ट सूटेबल कोर्स को अपने लिए चूस कर सके और मोबाइल इंजीनियरिंग फील्ड के ऐसे कुछ कोर्सेज है –

  • Diploma in Electronics and Telecommunication Engineering
  • Diploma in Mobile Engineering
  • Bachelor of Engineering in Mobile Engineering
  • Bachelor of Technology in Mobile Engineering
  • Master of Engineering in Mobile Engineering
  • Master of Technology in Mobile Engineering
  • Post Graduate Diploma in Mobile Engineering

 

Mobile Engineering की सैलरी

जहाँ तक मोबाइल इंजीनियरिंग की सैलरी पैकेज की बात है तो मोबाइल इंजीनियर को मिलने वाली एवरेज बेस सैलरी 5 लाख पर एनम तक हो सकती है। और इस तरह मोबाइल फ़ोन यानि स्मार्टफोन के इस वर्ल्ड में आप मोबाइल इंजीनियरिंग के रूप में अपनी खास पहचान बना सकते हैं। लेकिन आप कितने सक्सेसफुल होंगे यह पूरी तरीके से आपकी आइडियाज, आपकी नॉलेज, टेक्नोलॉजी के लिए पैशन और मोबाइल वर्ल्ड में एक नया बूम लाने की चाहत ही तय करेगी।

उम्मीद करते हैं आपको यह पोस्ट “Mobile Engineer Kaise Bane?” पसंद आई होगी और इस पोस्ट से आपको मोबाइल इंजीनियरिंग के बारे में अच्छा खासा नॉलेज मिला होगा। अगर आपको ये पोस्ट “Mobile Engineer Kaise Bane?” अच्छा लगे तो अपने बाकि दोस्तों को भी शेयर जरूर करे।

यह भी पढ़े: –

Civil Engineer Kaise Bane
SDM कैसे बने पूरी जानकारी हिंदी में
सीडीएस का फुल फॉर्म क्या है?
ISP क्या है और कैसे काम करता है?
बैंक मैनेजर कैसे बने सम्पूर्ण जानकारी

Add a Comment

Your email address will not be published.