पचास का नोट | Motivational Story in Hindi

 

Motivational Story in Hindi

 

पचास का नोट

एक बार एक व्यक्ति ऑफिस में देर रात तक काम करने के बाद थका हारा घर पहुंचा। दरवाजा खोलते ही उसने देखा कि उसका पांच वर्षीय बेटा सोने की बजाई उसका इंतजार कर रहा है। अंदर घुसते ही बेटे ने पूछा, “पापा क्या मैं आपसे एक सवाल पूछ सकता हूँ।” हाँ हाँ पूछो क्या पूछना है, पिता ने कहा। पापा आप एक घंटे में कितना कमा लेते हैं, बेटे ने पूछा। इससे तुम्हारा क्या लेना देना, तुम ऐसे बेकार के सवाल क्यों कर रहे हो, पिता ने झुंझलाते हुए उत्तर दिया। पापा मैं बस यूँ ही जानना चाहता हूँ प्लीज आप बताइए कि आप एक घंटे में कितना कमाते हैं।

पिता ने गुस्से में उसकी तरफ देखते हुए कहा, “100 रुपये।” बेटे ने मासूमियत  सर झुकाते हुए कहा, “पापा क्या आप मुझे 50 रुपये उधार दे सकते हैं।” इतना सुनते ही वह व्यक्ति आग बबूला हो उठा। तो तुम इसलिए ये फालतू का सवाल कर रहे थे ताकि मुझसे [पैसे लेकर तुम कोई बेकार से खिलौना या उटपटांग चीज खरीद सको, चुपचाप अपने कमरे में जाओ और सो जाओ। सोचो तुम कितने स्वार्थी हो, मैं दिन रात मेहनत करके पैसे कमाता हूँ और तुम उसे बेकार की चीजों में बर्बाद करना चाहते हो।यह सुनकर बेटे के आँखों में आंसू आ गए और वह अपने कमरे में चला गया।

वह व्यक्ति अभी भी बहुत गुस्से में था और सोच रहा था कि आखिर उसके बेटे की ऐसा करने की हिम्मत कैसे हुई। पर एक आध घंटा बीतने के बाद वह थोड़ा शांत हुआ और सोचने लगा कि हो सकता है उसके बेटे ने सच में किसी जरुरी काम के पैसे मांगे हो, क्योंकि आज से पहले उसने कभी भी इस तरह से पैसे नहीं मांगे थे।

फिर वह उठकर अपने बेटे के कमरे में गया और बोला, “क्या तुम सो रहे हो?” नहीं, जवाब आया। मैं सोच रहा था कि शायद मैंने बेकार में ही तुम्हें डांट दिया। दरहसल दिनभर के काम से मैं बहुत था गया था, व्यक्ति ने कहा।” मुझे माफ़ कर दो, ये लो अपने पचास रुपये, ऐसा कहते हुए उसने अपने बेटे के हाथ में पचास की नोट रख दी।

थैंक यू पापा, बेटे ने ख़ुशी से पैसे लेते हुए कहा। और फिर वह तेजी से उठकर अपनी अलमारी की तरफ गया। वहां से उसने ढेर सारे सिक्के निकाले और धीरे-धीरे उन्हें गिनने लगा। यह देखकर व्यक्ति फिरसे क्रोधित होने लगा।

पिता ने पूछा, “जब तुम्हारे पास पहले से ही पैसे थे तब तुमने मुझसे और पैसे क्यों मांगे?”  बेटे ने कहा, “क्यों कि मेरे पास पैसे कम थे पर अब पुरे हैं। पापा अब मेरे पास सौ रुपये है। क्या मैं आपका एक घंटा खरीद सकता हूँ। कृपा कर आप ये पैसे ले लीजिये और कल घर जल्दी आ जाइएगा, मैं आपके साथ बैठकर खाना खाना चाहता हूँ।”

अपने बेटे की बात सुनकर उस व्यक्ति के आँखों में आंसू आ गए। और उसने अपने बेटे को गले से लगा लिया।

दोस्तों, इस तेज रफ़्तार भरे जीवन में हम कई बार खुदको इतना बिजी कर लेते हैं कि उन लोगों के लिए ही समय नहीं निकाल पाते जो हमारे जीवन में सबसे ज्यादा महत्व रखते हैं। इसलिए हमें ध्यान रखना होगा कि इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में हम अपने माँ-बाप, जीवनसाथी, बच्चे और मित्रों के लिए समय निकाले वरना एक दिन हमें भी एहसास होगा कि हमने छोटी-छोटी चीजें पाने के लिए कुछ बहुत बड़ा खो दिया।

दोस्तों, आपको यह कहानी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताएं और पसंद आए तो अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ शेयर जरूर करे। आपका धन्यवाद इस छोटी सी कहानी “पचास का नोट | Motivational Story in Hindi “ को पढ़ने के लिए आपने अपना महत्वपूर्ण समय निकाला।

यह भी पढ़े: –

नई बहु की समझदारी
अपना मकान
बेरोजगार बेटे की कहानी आपको रुला देगी
अपने क्रोध को शांत कैसे करे?
पत्नी तो पत्नी ही होती है
सेवा की कीमत
सफलता का रहस्य

Leave a Reply

Your email address will not be published.