DNA Full Form: DNA का फुल फॉर्म क्या है और DNA टेस्ट क्यों और कैसे किया जाता है?

DNA Full Form: दोस्तों क्या आपको पता है कि DNA (डीएनए) क्या है और DNA टेस्ट कैसे और क्यों किया जाता है? आज मैं आपको DNA के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ। जैसे कि DNA का फुल फॉर्म क्या है? DNA टेस्ट कैसे और क्यों किया जाता है? और भी बहुत सारी बातें हैं DNA से जुड़ी। तो आइए जानते हैं DNA के बारे में।

DNA किसी भी प्राणियों के जीवित सेल्स यानि कोशिकाओं में पाए जाना वाला सबसे सूक्ष्म कण है, जिसमे उस जिव के पुरे गुण छुपे होते हैं। किसी भी जीवित प्राणी या इंसान का शरीर छोटे छोटे कोशिकाओं यानि सेल्स से मिलकर बना होता है। और उसी सेल्स के बीच में होता है न्युक्लियस और न्युक्लियस में होता है क्रोमोजोम्स। और उसकी क्रोमोजोम्स के अंदर DNA होता है। DNA अडेनिन, गुआनिन, थाइमिन, और साइटोसीन से मिलकर बना होता होता है।

DNA का फुल फॉर्म (DNA Full Form in Hindi) 

DNA का पूरा नाम यानि फुल फॉर्म Deoxyribonucleic Acid (डिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल) होता है। इसका नाम न्यूक्लिक इसलिए होता है क्यों की यह न्यूक्लियस में पाया जाता है।

हर न्यूक्लियस में क्रोमोज़ोम की संख्या अलग अलग होती है। जैसे इंसानो के एक सेल्स के न्यूक्लियस में 46 क्रोमोज़ोम्स होते हैं और बिल्लियों के सेल्स के न्यूक्लियस में 38 क्रोमोज़ोम्स होते हैं। क्रोमोज़ोम्स इंग्लिश के लेटर X जैसे आकर में होता है। अगर क्रोमोज़ोम्स को किसी एक सिरे से पकड़कर खोला जाए तो यह सीढ़ी जैसे घुमावदार होते हुए खुलेगी। और इसकी लम्बाई 2 से 8 सेंटीमीटर तक हो सकती है। और इसी के अंदर होता है न्यूक्लिक एसिड यानि डीएनए, जिसमे उस जीव के सारे गुण छुपे होते हैं। अगर इंसान के सारे DNA को जोड़ दिया जाए तो उसकी लम्बाई धरती से प्लूटो और वापस प्लूटो से धरती तक आ सकती है। सिर्फ 1 ग्राम DNA 713 बाइट तक का डाटा स्टोर करके रख सकता है। हमारे शरीर में हर दिन 1 लाख से 10 लाख तक DNA नष्ट हो जाते हैं और उनकी जगह नए DNA जन्म लेते हैं।

DNA में ही हमारी सारी अनुमानसिक विशेषताओं की जानकारी होती है। जैसे हमारे बालों का रंग कैसा होगा, आँखों का रंग क्या होगा या हमें कौन सी बिमारियां हो सकती है, यही जानकारी माता-पिता से उनके बच्चो में DNA के माध्यम से उनमे ट्रांसफर होती है। यह एक पीढ़ी में दूसरी पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर होती रहती है।

DNA की खोज किसने किया है? (Who Discovered DNA?)

DNA की खोज वैज्ञानिक James Watson और Francis Crick ने सन 1953 में की थी। इस खोज के लिए उन्हें 1962 में नोवेल पुरष्कार से सम्मानित किया गया था।

DNA टेस्ट क्यों और कैसे किया जाता है? (Why and How is a DNA Test Done?) 

हर इंसान का DNA अलग अलग होता है। यानि किसी दो इंसान का DNA सेम नहीं होता है। किसी बच्चे का DNA उसके माता-पिता दोनों से मिलकर बना होता है। और बच्चों के DNA में माता और पिता दोनों के गुण होते हैं। इसलिए बच्चों का DNA टेस्ट उनके असली माता- पिता के संबंधो को जानने के लिए किया जाता है। और DNA टेस्ट के दवरा संबंधो का पता भी लगाया जा सकता है। कभी कभी आपराधिक मामलों में भी DNA टेस्ट किया जाता है। देश के कुछ चुनिंदा लैब में DNA टेस्ट किए जाते हैं। इसके लिए इंसान के खून, स्किन , बाल, यूरिन और मुँह के अंदर का गाल के पास के हिस्से का सेल्स का सैंपल लिया जाता है। DNA टेस्ट के लिए 10 से 15 दिनों का समय लगता है। और इसकी रिपोर्ट आने में  10 से 15 दिन लग जाते हैं। इसके लिए आपको 10 से 15 हजार रुपये उस लैब को पे करना होता है।

उम्मीद करते हैं आपको इस पोस्ट से DNA के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी।

तो  इस पोस्ट में आपने DNA का फुल फॉर्म (DNA Full Form), DNA आखिर होता क्या है? और DNA टेस्ट क्यों और  जाता है? उम्मीद करते हैं  यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी अगर अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों को भी जरूर से शेयर करे।

यह भी पढ़े: –

Leave a Reply

Your email address will not be published.