BHMS Full Form: बी.एच.एम.एस (BHMS) क्या है और कैसे करे? – BHMS Course Details in Hindi

BHMS Full Form: हेलो दोस्तों, आपका हमारे ब्लॉग में स्वागत है। आज हम जिस कोर्स के फुल फॉर्म के बारे में जानेंगे वह है BHMS Full Form के बारे में। और इसके साथ ही BHMS से जुड़ी सारी जानकारियाँ आज हम आपको देने वाले हैं।

BHMS Full Form in Hindi

BHMS का पूरा नाम Bachelor of Homeopathic and Surgery है।

बी.एच.एम.एस (BHMS) क्या है?

BHMS एक अंडरग्रेजुएट होम्योपैथिक मेडिकल कोर्स है। होम्योपैथिक चिकित्सा की एक सामग्री प्रणाली है। जो कि मुख्य रूप से टेबलेट के रूप में दिए गए अत्यधिक पतला पदार्थो के साथ व्यक्ति कि उपचार पर आधारित है।

बी.एच.एम.एस (BHMS) कोर्स की अवधि

BHMS कोर्स की अवधि पांच वर्ष की होती है जिसमे एक इंटर्नशिप शामिल होता है एक समग्र वैकल्पिक चिकित्सा के डिग्री के रूप में। होम्योपैथिक मेडिसिन और सर्जरी की डिग्री Bachelor of Homeopathic एक औषोधी प्रणाली और बुनियादी ग्रहण प्रदान करता है। होम्योपैथिक मेडिसिन और सर्जरी के स्नातक में भी पत्राचार के माध्यम से या दूनस्त शिक्षा के कार्यक्रम के पीछा किया जा सकता है।

बी.एच.एम.एस (BHMS) के लिए योग्यता

अगर आप इस कोर्स को करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको 12th पास करना होगा। 12th में आपके पास Physics, Chemistry और Biology यानि कि PCB और English सब्जेक्ट होना कम्पल्सरी है। अगर बात करे परसेंटेज की तो 12th में आपके कम से कम 50% मार्क्स होने जरुरी हैं। एडमिशन के समय आपकी ऐज कम से कम 17 वर्ष होने चाहिए।

इस कोर्स में शामिल सब्जेक्ट –

  • Homeopathic Pharmacy
  • Homeopathic Metarial Medica
  • Homeopathic Philosophy
  • Bio-Chemistry
  • Homeopathic Repertory
  • Medicine

इन सभी सब्जेक्ट्स का अभ्यास इसमें शामिल होता है। इन सभी योग्यता के साथ ही कोई भी विद्यार्थी इस कोर्स को कर सकता है।

बी.एच.एम.एस (BHMS) एंट्रेंस एग्जाम

अब बात करते हैं ऐसे एंट्रेंस एग्जाम के बारे में जो BHMS के लिए होता है। कुछ मुख्य एंट्रेंस एग्जाम जो BHMS में प्रवेश के लिए कराया जाता है वो है –

  • NIH BHMS Entrance Exam
  • PU CET (BHMS) Entrance Exam
  • UP BHMS – Common Entrance Test
  • National Eligibility Cum Entrance Test (NEET)

BHMS करने के लिए इन सभी एंट्रेंस एग्जाम को किसी भी विद्यार्थी को क्रैक करना होता है। तब जाकर वह विद्यार्थी एक अच्छे कॉलेज में एडमिशन पा सकता है।

बी.एच.एम.एस (BHMS) करने के फायदे 

BHMS कोर्स करने के बाद छात्रों को अनेक फायदे होते हैं। आज के क्षेत्र में होम्योपैथिक का क्षेत्र बहुत बड़ा है इसलिए इन क्षेत्र में अनेक रोजगार के अवसर उपलब्ध होते हैं। BHMS में कई कोर्स कराएं जाते हैं जिससे छात्रों को इस क्षेत्र से जुड़ी जानकारी हो जाती है। इसके बाद छात्र इस क्षेत्र में डॉक्टर, प्राइवेट प्रैक्टिस, पब्लिक हेल्थ, रिसर्चेस और साथ ही कंसल्टेंट जैसे फार्मासिस आदी ले पोस्ट पर जॉब कर सकते हैं। और इसके साथ ही हम बात करें BHMS कोर्स के बाद रोजगार के क्षेत्र की तो BHMS कोर्स करने के बाद आसानी से गवर्नमेंट सेक्टर में गवर्नमेंट हॉस्पिटल एवं निजी हस्पताल में बीमा कंपनी और साथ ही एनजीओ दवा कंपनियों के साथ अनुसंधान प्रयोगसालाओं आदि में नौकरी पा सकते हैं।

बी.एच.एम.एस (BHMS) के बाद कुछ रोजगार 

BHMS कोर्स करने के बाद कुछ सामान्य रोजगार के क्षेत्र हैं। जैसे कि –

  • Phasmasist Junio
  • Junior Lacturel
  • Insurance Officer
  • Research Associate
  • Homeopathic Doctor
  • Homeopathic Consultant
  • Quality Control Officer

मैं उम्मीद करती हूँ कि यह जानकारी आपकी काम की लगी होगी। अगर आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और हमारे ब्लॉग को भी जरूर से सब्सक्राइब कर लें।

यह भी पढ़े: –

Leave a Reply

Your email address will not be published.