एक साधु की कहानी | Best Life Changing Motivational Story in Hindi

दोस्तों आज हम आपको एक Best Life Changing Motivational Story in Hindi सुनाने वाले हैं जिसे सुनने के बाद आप भी अपने जीवन में कोई भी मौका नहीं गवाएंगे। तो चलिए कहानी को शुरू करते हैं।

Best Life Changing Motivational Story in Hindi

(एक साधु की कहानी)

एक बार एक गाँव में एक साधु रहता था जो भगवान पर बहुत विश्वास रखता था। वह साधु एक बार पेड़ के निचे बैठा था और भगवान को याद कर रहा था। अचानक वहां बाढ़ आ गई। चारो तरफ पानी ही पानी। सब लोग अपने आपको बचाने के लिए ऊपर की ओर जाने लगे। वे भागने लगे पहाड़ के तरफ। उनमे से एक ने देखा कि साधु जी ऐसी हालत में भी भगवान की तपस्या कर रहे हैं। वह कहीं जा क्यों नहीं रहें हैं आपके आपको बचाने के लिए। तो उसने साधु से बोला, “अरे आप कहीं जा क्यों नहीं रहे हो? आप भी चलो हमारे साथ ऊपर नहीं तो आप डूब जाओगे।”

साधु बोले, “अरे मुझे क्या होगा! मैं भगवान की इतनी तपस्या करता हूँ मुझे कुछ नहीं हो सकता। मुझे भगवान अपने आप बचाएगा।” धीरे-धीरे पानी साधु के कमर तक आ गया। अब लोग वहां से नाव लेकर निकलने लगे। तो उनमे से एक ने साधु को कहा, “अरे पानी आपके कमर तक आ चूका है। हमारे साथ चलो हमारे नाव में अभी भी एक व्यक्ति की जगह है।”  साधु ने कहा, “नहीं नहीं आप जाओ भगवान मुझे अपने आप बचाएगा।” और वह नाव वाला भी वहां से निकल गया।

कुछ देर बाद पानी इतना बढ़ गया कि साधु पेड़ के ऊपर चढ़ गया। पानी इतना ऊपर तक आ चूका था कि अब तो बचाने के लिए हेलिकॉप्टर निकलने लगे। एक हेलीकॉप्टर साधु के पास आया जो कि आखिरी हेलीकाप्टर था, साधु के पास आकर निचे रस्सी फेकि और बोला, “इसे पकड़ो और जल्दी से ऊपर आ जाओ नहीं तो आपको डूबना पड़ेगा। यह आखिरी हेलीकॉप्टर है और आपके पास कोई रास्ता ही नहीं है बचने के लिए।” साधु ने कहा, “यह रस्सी ऊपर खिंच लो और आप चले जाओ। मुझे अपने भगवान पर पूरा भरोसा है वह बचा ही देगा।”

पानी काफी ऊपर आ गया, पेड़ डूब गया और साधु की डूबने से मौत हो गई। मरने के बाद साधु भगवान के पास गया और बोला, “हे भगवान! मैंने पूरी जिंदगी तेरी तपस्या की, मेरा पूरा जीवन तेरी आराधना करने पर लगा दिया फिर भी इतने भरोसे के साथ तेरा इंतजार किया कि तू मुझे बचाने आएगा। लेकिन मेरी वहां डूबकर मौत गई पर तू नहीं आया। ऐसा क्यों?” भगवान बोले, “मुर्ख इंसान, एक बार नहीं तीन बार आया था। वह तीनो बार मैं ही तो था। पहला पैदल, दूसरे नाव के साथ और तीसरा हेलीकॉप्टर के साथ। लेकिन तू मेरा एक भी अवसर, मेरी एक भी ओपोर्चुनिटी पहचान नहीं पाया। पता नहीं किसका इंतजार कर रहा था।

इस कहानी की तरह ही ऊपर वाला हमें बहुत मौके देता रहता है लेकिन हम उन सबको ठुकराकर ना जाने किस बात या  किस चीज का इंतजार रहे होते हैं कीं वह होगा तभी यह करूँगा। ऐसा करते करते उस बात पर अड़े रहने से एक वक्त के बाद मौका हाथ से छूट जाता है।

उम्मीद करते हैं आपको यह Best Life Changing Motivational Story in Hindi जरूर पसंद आयी होगी। अगर आप इसी तरह और भी Life Changing Motivational Story in Hindi पढ़ना चाहते हैं तो फिर हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर कीजिए।

यह भी पढ़े: – 

Leave a Reply

Your email address will not be published.