MBA Full Form: एमबीए का फुल फॉर्म क्या है?

MBA Full Form: दोस्तों हमारे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है। दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे एमबीए के बारे पूरी जानकारी। MBA का फुल फॉर्म क्या होता है? MBA कैसे और कहाँ से करे? MBA करने के फायदे क्या-क्या हैं? और MBA करने के बाद आप क्या-क्या कर सकते है? और इसके साथ ही कई सारी जानकारी आपको देने वाले हैं। MBA का मतलब एक मास्टर डिग्री कोर्स होता है। आपको इसमें बिज़नेस से जुडी जानकारियों के बारे में सिखाया जाता है जैसे कि – Business Management, Marketing Skills, Business Skills आदि की जानकारी दी जाती है। MBA का कोर्स कोई भी छात्र कर सकता है बस उसका ग्रेजुएशन पूरा होना चाहिए। जब आप MBA पूरा कर लेते हैं तब आप अपना खुद का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं। साथ ही आप जिस क्षेत्र में रूचि रखते हैं उस क्षेत्र में MBA कर सकते हैं।

MBA का फुल फॉर्म – MBA Full Form in Hindi

MBA का फुल फॉर्म (MBA Full Form in Hindi) Master of Business Administration होता है। जिसे हिंदी में व्यवसाय प्रवंध में स्नातकोत्तर कहा जाता है।

MBA क्या है? – What is MBA 

MBA यानि Master of Business Administration, ये भारत और विदेशों में सबसे लोकप्रिय पोस्ट में से एक है। 2 साल का ये पोस्ट ग्रेजुएशन प्रोग्राम मुख्यरूप से प्रवंधकारी स्तर पर नौकरी के अवसरों का अधिकतर प्रवेशद्वार है। विज्ञान, कॉमर्स, मानविकी यह सभी स्ट्रीम के छात्र इसमें आगे बढ़ सकते हैं। एक रेगुलर एमबीए या पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा आमतौर पर 2 साल का होता है जिसे 4 या 6 सेमेस्टर में विभाजित किया जाता है। छात्र रेगुलर ऑनलाइन या दुरस्त शिक्षा से बिभिन्न तरीकों से एमबीए कर सकते हैं।

MBA के लिए योग्यता – Qualification for MBA

जो भी छात्र MBA की मास्टर डिग्री करने में रूचि रखते हैं उनमे कुछ क्वालिफिकेशन होने चाहिए। जैसे की छात्र ग्रेजुएशन के बाद MBA कर सकते हैं फिर चाहे आपने जिस भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन पूरा किया हो। ग्रेजुएशन में छात्र कम से कम 50% स्कोर से पास होना अनिवार्य है। और इसके साथ ही अंतिम वर्ष की ग्रेजुएट उमीदवार भी MBA के लिए आवेदन कर सकते हैं। परन्तु इसके लिए उन्हें संस्थान से निर्धारित अवधि के भीतर ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी करने का प्रमाण देना होता। है

MBA कैसे करे? – How to do MBA?

MBA कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए कुछ MBA के लिए एंट्रेंस एग्जाम होते हैं। जैसे कि CAT, CMT, MAT एग्जाम जो बिभिन्न कॉलेज में प्रवेश के लिए मान्य है। उमीदवार को इन प्रवेश परीक्षाओं को पास करना होता है। उसके अनुसार आपको कॉलेज दिया जाता है। तथा कुछ निजी कॉलेजेस में ऐसे भी होते हैं जहाँ आप MBA के बिना एंट्रेंस एग्जाम दिए लिए भी एडमिशन ले सकते हैं। आप इन बताये गए तरीकों के द्वारा एडमिशन ले सकते हैं।

MBA कितने साल का कोर्स होता है? – How Long is an MBA Course?

MBA 2 साल का कोर्स होता है तथा इसमें 4 से लेकर 6 सेमेस्टर शामिल होते हैं। इसमें आपको व्यवसाय से सम्बंधित पढाई करवाई जाती है  तथा कोर्स के साथ-साथ कुछ प्रोग्राम भी होते हैं जो कि छात्र समय-समय पर अपनी पसंद के अनुसार सुन सकते हैं और कर सकते हैं।

MBA Program –

  • Executive MBA Program
  • MBA Program
  • Full-Time Executive Program
  • 2 Year Full Time MBA Program
  • Part-Time MBA
  • Evening (Second Shift) MBA Program
  • Modular MBA Program

और भी इसी तरह की कई प्रोग्राम इसमें शामिल होते हैं।

MBA के लिए सब्जेक्ट – Subjects for MBA

MBA करने वाले छात्रों को अपने दूसरे साल में अपनी स्पेशलाइज़शन के अनुसार ही MBA कोर्स की चयन करना पड़ता है। चलिए हम आपको कुछ सब्जेक्ट्स और कोर्स के बारे में बताते हैं जिसे आप चुन सकते हैं।

MBA कोर्स के लिए कुछ Subjects –

  • Marketing
  • Finance
  • Human Resource
  • Operation
  • Supply Chain Management
  • Health Care Management
  • Information Technology
  • Rural Management
  • Agribusiness Management

आप इनमे से किसी भी सब्जेक्ट को चुन सकते हैं।

MBA की फीस – MBA Fees

तो दोस्तों यदि आप सर्च कर रहे हैं कि भारत में MBA की फीस कितनी होती है तो आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि MBA की फीस उसके कॉलेज पर निर्भर करता है कि आप कौन से कॉलेज से MBA कर रहे हैं। MBA कोर्स फीस अलग-अलग होती है तथा विषय के आधार पर भी इसकी फीस का निर्धारण किया जाता है।

MBA करने के फायदे – Benefits of Doing MBA

यह बात तो आप सभी जानते हैं कि हर कोर्स को करने की अपनी अलग-अलग फायदे और अलग-अलग नुकसान होते हैं तो चलिए आपको बताते हैं कि MBA करने के क्या-क्या फायदे होते हैं।

1 . Higher Salary – अगर आप MBA करने के बाद किसी कंपनी में जॉब करते हैं तो आपको अच्छा खासा फीस मिलता है। यह आपके लिए MBA का सबसे अच्छा लाभ हो सकता है।

2 . Start Up – MBA करने के बाद आपके पास अच्छा-खासा एक्सपेरिएंस हो जाता है और आप अपना खुद का बिज़नेस स्टार्ट कर सकते हैं। और अपनी एक अच्छी टीम भी बना सकते हैं।

3 . Multiple Carier Option – MBA पूरा होने के बाद आपको बहुत से विकल्प मिलते हैं। अपना करियर बनाने के लिए जैसा कि Finance, Consultancy, Ecommerce आदि में आप अपना करियर भी बना सकते हैं।

4 . Teaching Carier – MBA की डिग्री प्राप्त करने के बाद आप PHD करके भी टीचिंग प्रोफेशन में जा सकते हैं और एक अच्छा खासा करियर भी बना सकते हैं।

MBA करने के बाद आपकी सैलरी कितनी होती है? – What is the Salary After Doing MBA?

अब MBA के बारे में इतनी सारी जानकारी आपके पास होने के बाद आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि MBA की सैलरी कितनी होती है। MBA करने के बाद आपको कितनी सैलरी मिलती है? तो चलिए जानते हैं।

एक MBA डिग्री होल्डर को उस विभाग की प्रवन्ध की जिम्मेदारी दी जाती है जिसके लिए वे नियुक्त किये जाते हैं एक मैनेजर की रूप में। व्यापकरुप से योजना बनाना, रणनीति बनाना, टीम का नेतृत्व करना, ग्राहकों के साथ संपर्क करना और अन्य विभागों के साथ समन्वय बनाना यह सभी जिम्मेदारियाँ उन्हें दी जाती है। और इन्ही सब कामों के अनुसार उसकी सैलरी निर्धारित की जाती है। फिर भी आपको बता दें कि इसकी सैलरी कम से कम 3 लाख से लेकर 13लाख रुपये तक होती है। यह उसके ऊपर और उसके कार्य के ऊपर भी निर्भर करता है कि उसकी सैलरी कितनी होगी।

 

तो आज के इस पोस्ट में (MBA Full Form) हमने जाना MBA क्या होता है और MBA के बारे में पूरी जानकारी। उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी जरूर पसंद आयी होगी। अगर पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें।

यह भी पढ़े –

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.