मैरी कॉम

मैरी कॉम की जीवनी | Mary Kom Biography in Hindi

मैरी कॉम की जीवनी – Mary Kom Biography in Hindi

 

मैरी कॉम की जीवनी – 

जन्म 1 मार्च 1983 कांगथेई, मणिपुर, भारत
पूरा नाम मैंगते चंग्नेइजैंग मैरी कॉम
पिता मैंगते टोनपा कॉम
माता मैंगते अखम कॉम
पति ऑनलर कॉम
खेल मुक्केबाजी

प्रारंभिक जीवन और परिवार 

मैरी कॉम का जन्म 1 मार्च 1983 को मणिपुर के चुराचांदपुर जिले में एक गरीब किसान के परिवार में हुआ था। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा लोकटक क्रिस्चियन मॉडल स्कूल और सेंट हेवियर स्कूल से पूरी की। आगे की पढाई के लिए वह आदिमजाति हाई  स्कूल, इम्फाल गई लेकिन परीक्षा में फ़ैल होने के बाद उन्होंने स्कूल छोड़ दिया और फिर राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय से परीक्षा दी।

मैरी कॉम की रूचि बचपन से ही एथलेटिक्स में थी। उनके मन में बॉक्सिंग का आकर्षण 1999 में उस समय उत्पन्न हुआ जब खुमान लम्पक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में कुछ लड़कियों को बॉक्सिंग रिंग में लड़को के साथ बॉक्सिंग के दावपेंच आजमाते देखा। मैरी कॉम बताती है कि साथी मणिपुरी बॉक्सर डिंग्को सिंह की सफलता ने भी उन्हें बॉक्सिंग की तरफ आकर्षित किया।

करियर 

मणिपुर राज्य महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप और पश्चिम बंगाल में क्षेत्रीय चैंपियनशिप में उनकी जीत के बाद 2000  में मैरी कॉम का करियर शुरू हुआ।

2001 में, उन्होंने अंतराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा करना शुरू कर दिया। वह केवल 18 वर्ष की थी जब उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में पहली एआईबीए महिला विश्व चैंपियनशिप मुक्केबाजी में अपनी अंतराष्ट्रीय शुरुवात की, 48 किलो वजन वर्ग में रजत पदक जीता।

2002 में, उन्होंने तुर्की में दूसरी एआईबीए महिला विश्व चैंपियनशिप में 45 किलो वजन वर्ग में स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने उसी वर्ष हंगरी में विच कप में 45  किलो वजन वर्ग में स्वर्ण पदक भी जीता।

2003 में, वुमन चैंपियनशिप जो की भारत में आयोजित हुई थी वह मैरी कॉम ने जीत ली।

2004 में, नॉर्वे में आयोजित विमेंस वर्ल्ड कप भी मैरी कॉम ने जीती।

2005 में, 46 किलो वजन के साथ फिरसे मैरी  कॉम ने विमेंस चैंपियनशिप जीत ली। उसके बाद इसी साल वर्ल्ड चैंपियनशिप में 46 किलो वजन के साथ दोबारा मैरी कॉम ने वर्ल्ड चैंपियनशिप जीती।

उसके बाद 2006 में वर्ल्ड चैंपियनशिप हुई फिर उन्होंने जीती। इसके बाद 2006 में मैरी कॉम का एक बेटा हुआ। उसके बाद 2 साल तक उन्होंने अपने बच्चों पर ध्यान दिया।

2008 में, एसीएन विमेंस बॉक्सिंग चैंपियनशिप हुई भारत में और यहाँ मैरी कॉम दूसरे स्थान पर आई।

2009 में, वियतनाम में आयोजित एसीएन इंडोर गेम्स में 46 किलो केटेगरी में पहले स्थान पर जीत गई और गोल्ड मेडल मिला।

2010 में, फिरसे विमेंस बॉक्सिंग चैंपियनशिप हुई कज़ाकस्तान में और उन्होंने ये भी जीता। इसी साल एसीएन गेम्स में 51 किलो केटेगरी के साथ इन्होने ब्रोंज मेडल जीता।

2011 में, चीन में इन्होने 48 किलो के साथ एसीएन विमेंस कप जीता।

2012 में, समर ओलंपिक्स लंदन में 51 किलो केटेगरी के साथ ब्रोंज मेडल जीता।

व्यक्तिगत जीवन 

कॉम फुटबॉल खिलाडी करंग ऑनलर से विवाहित हैं। कॉम पहलीबार अपने पति से 2000 में बैंगलोर जाने के दौरान और उसके बाद दिल्ली में एक खेल बैठक के लिए यात्रा करते समय अपने सामान से चोरी हो गई थी। नई दिल्ली में पंजाब में राष्ट्रीय खेलों के रास्ते जाने पर वह ओंकहोल्डर से मिले जो दिल्ली विश्वविद्यालय में कानून का अध्ययन कर रहे थे। ओंकहोल्डर उत्तर पूर्व छात्रों के निकाय के अध्यक्ष थे और उन्होंने कॉम की मदद की। इस प्रकार वे दोस्त बन गए और एक दूसरे को डेटिंग करना शुरू कर दिया। 2005 में चार साल बाद उनका विवाह हुआ। उनके साथ 3 बेटे हैं जुड़वां रेचुंगवार और खुपनेवार (2007 में पैदा हुए), और बेटे प्रिंस (2013 में पैदा हुए)।

पुरस्कार 

  • साल 2003 को अर्जुन अवार्ड से पुरस्कृत हुई
  • साल  2006 को पद्म श्री अवार्ड से पुरस्कृत हुई
  • साल 2007 को राजीव गांधी खेल रत्न के लिए मैरी कॉम को चुना गया
  • साल 2007 में लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स – पीपल ऑफ़ द ईयर से सम्मानित हुई
  • 2008 में सीएनएन-आईबीएन (CNN-IBN) और रिलायंस इंडस्ट्रीज रियल हीरोज अवार्ड से सम्मानित हुई
  • साल 2008 में पेप्सी-एमटीवी (MTV) यूथ आइकॉन
  • साल 2008 में आल इंडिया बॉक्सिंग एसोसिएशन (AIBA) द्वारा मैग्निफिसिएंट मैरी अवार्ड का संबोधन
  • साल 2009 में राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड
  • साल 2009 में इंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसिएशन द्वारा महिला बॉक्सिंग की एम्बेस्डर घोषित किया गया
  • साल 2013 में पद्म भूषण अवार्ड से सम्मानित किया गया।
  • साल 2018 में बीरांगना सम्मान से सम्मानित किया गया।

2014 में मैरी कॉम के ऊपर बनी फिल्म 

मैरी कॉम के लाइफ के ऊपर 2014 में एक फिल्म भी बनाई जा चुकी है जो की है “MARY KOM” इस फिल्म में मैरी कॉम का किरदार निभाया है बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने और इस फिल्म को सभी ने बहुत पसंद भी किया था।

 

यह भी पढ़े:-

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *