क्या पिरामिड को एलियन ने बनाया था?

क्या पिरामिड को एलियन ने बनाया था? | Did The Pyramid be Built by Aliens

 

क्या पिरामिड को एलियन ने बनाया था? Did The Pyramid be Built by Aliens

दुनिया में ऐसी कई जगह है जो अपने आप में कई रहस्यों को समेटे हुए हैं और उन्ही जगहों में से एक है मिस्र और वहां के पिरामिड। मिस्र की सबसे रहस्यमय कलाकृति है “The Pyramid of Giza” जो दुनिया की सात अजूबों में से एक है। वैसे तो यहाँ के पिरामिड का इतिहास 4000 साल पहले का पुराना है लेकिन आज भी इन पपिरामिड से जुड़े हुए कई रहस्य है जिनके बारे में सही जानकारी किसी को नहीं है। तो आज हम इस लेख में बात करेंगे इन पिरामिड के रहस्यों के बारे में।

 

क्या एलियन ने पिरामिड को बनाया था? – Kya Aliens Ne Pyramid Ko Banaya Tha? 

द ग्रेट पिरामिड को बनाने के लिए 25 लाख अलग-अलग आकार के चुना पत्थरों का उपयोग किया गया था और हर एक पत्थर का वजन 2-30 टन का था जिससे किसी भी स्ट्रक्चर का निर्माण करना बहुत ही मुश्किल है। तो क्या उस समय की टेक्नोलॉजी हमारे टेक्नोलॉजी से एडवांस्ड थी? या फिर ग्रेट पिरामिड का निर्माण एलियंस ने किया था? यह  बात आज भी एक रहस्य बनी हुई है। क्यों की इंजिनीर्स भी मानते हैं कि आज से समय में इतना एडवांस्ड टेक्नोलॉजी होते हुए भी बिलकुल ऐसा ही एक दूसरे पिरामिड का निर्माण करना नामुमकिन है।

 

गिज़ा के ग्रेट पिरामिड में कूल कितने तहखाने है इसके बारे में तो कोई नहीं जानता लेकिन अभी तक के शोध के मुताबिक इसमें तीन तयखाने मिले है आदाब तहखाना, राजा का तहखाना और रानी का तहखाना। लेकिन हैरान कर देनी वाली बात यह है कि राजा के तहखाने में तो न राजा की ममी है और न ही रानी के तहखाने में रानी की ममी जबकि इस तहखाने को राजा और रानी के शव के संरक्षण के लिए बनाया गया था।

 

द ग्रेट स्फिंक्स ऑफ़ गिज़ा पिरामिड की सबसे आश्चर्यजनक मूर्ति है जिसके बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया कि यह किसके लिए बनाया गया था। 73 मीटर लंबी और 20 मीटर ऊँची इस मूर्ति की सबसे खास बात यह है कि इसे एक ही पत्थर को काटकर बनाया गया है। यह दुनिया की सबसे बड़ी एकल पत्थर की मूर्ति है जिए 4000 साल पहले बनाया गया था।

 

ग्रेट पिरामिड में पत्थरों का इस्तेमाल इस प्रकार किया गया है कि इसके भीतर का तापमान हमेशा धरती के औसत तापमान 20 डिग्री सेलसियस के बराबर रहता है। यदि आप ग्रेट पिरामिड की लोकेशन को एक ऑर्डिनेट सीकुइंस नंबर के रूप में लेते हो तो यह सीकुइंस नंबर स्पेस में स्पीड ऑफ़ लाइट्स से मेल खाता है।

 

पपिरामिड का रहस्य तो और भी बढ़ने लगा जबकि यह सिर्फ गिज़ा में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में पाया जाने लगा। गिज़ा से कई छोटे पिरामिड्स सूडान में मिले जिनकी संख्या 255 और असेही साउथ अमेरिका, चीन, इटली, इंडोनेशिया और भी बहुत सारे जगहों पर मिलने लगे।

 

गौर करने वाली बात तो यह है कि उस समय संचार का कोई माध्यम नहीं होता था तो फिर किसे बिना किसी संचार माध्यम के एक ही समय में धरती के अलग-अलग जगहों पर काफी हद तक एक जैसे दिखने वाले पिरामिड को  बनाया गया। यानि प्रयागों द्वारा यह प्रमाणित हो गया है कि पिरामिड के अंदर बिलक्षण किस्म की ऊर्जा तरंगे लगातार काम करती रहती है जो सजीवों और निर्जीवों दोनों ही प्रकार के वस्तुओं पर प्रभाव डालती है। बैज्ञानिक इसे पिरामिड पावर कहते हैं। इन पिरामिड को बनाने की तकनीक इस बारे में अब तक कुछ भी नहीं पता चला। बैज्ञानिक कई सालों से इस बात को जानने में लगे हुए हैं लेकिन कोई सफलता नहीं मिली।

 

उम्मीद करते हैं आपको यह लेख क्या पिरामिड को एलियन ने बनाया था? | Did The Pyramid be Built by Aliens जरूर पंसद आई होगी। अगर आपको इस लेख से पिरामिड से जुडी कुछ जनकारी मिली तो कमेंट करके जरूर बताएं और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब भी जरूर कर लें।

 

यह भी पढ़े:-

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *