अनोखा मालिक | Anokha Malik Moral Story in Hindi

अनोखा मालिक | Anokha Malik Moral Story in Hindi

 

अनोखा मालिक

जाकिर हुसैन के घर पर एक अधेड़ उम्र का नौकर था। वह रोज देर से सो कर उठता था। उसकी इस आदत से घरवाले उससे परेशान थे। उन्होंने उस नौकर की शिकायत जाकिर हुसैन जी को कर दी और उसे बाहर निकालने के लिए भी कह दिया। इसके जवाब में जाकिर साहब ने केवल यही कहा, “उसे समझाओ।”

 

सबने उसे समझाया पर इसके बावजूद उस पर कोई असर नहीं हुआ। परेशान होकर घरवालो ने जाकिर साहब से निवेदन किया, “अब आप ही समझाइए उस नौकर को।” अगले ही दिन सभरे जाकिर साहब उठे, एक लोटा पानी भरकर उस नौकर के सिर के पास जाकर खड़े हो गए। नौकर तो अभी गहरी निद्रा में सो रहा था। वह उसे धीरे से उठाते हुए बोले, “उठिए मालिक जागिए, सभेरा हो गया है, मुँह धो लीजिए। मैं अभी आपके लिए चाय और स्नान के पानी का इंतजाम करता हूँ।” इतना कहकर वह चले गए।

 

 

इधर नौकर परेशान हो गया। वह सोच रहा था, “यह क्या हो रहा है? कहीं मैं सपना  तो नहीं देख रहा हूँ?” तभी जाकिर साहब चाय लेकर आते हुए दिखाई दिए। वह आकर बोले, “मालिक लीजीए, चाय पीकर स्नान कर लीजिए।” नौकर बहुत घबरा गया। क्षमा मांगते हुए बोला, “हुजूर आज के बाद से मेरे देर से सो कर उठने की शिकायत किसी को नहीं होगी।” इस पर जाकिर साहब मुस्कुरा दिए।

 

अगले ही दिन सभी घरवालों के आश्चर्य का ठिकाना न रहा कि वह नौकर सबसे पहले उठकर घर का सारा काम कर रहा था। नौकर जाकिर हुसैन की विनयशीलता से अभिभूत हो गया। जाकिर साहब ने अपने घर के लोगों को समझाया, “व्यक्ति के आचरण में निहित विनम्रता का कमल यहीं है कि वह सामने वाले व्यक्ति पर बेहद सरलता के साथ अपना प्रभाव डाल देता है। समाज में अपने व्यवहार द्वारा यदि प्रभाव कायम करना है तो जीवन में विनम्रता को स्थान दे।”

 

 

हमें उम्मीद है आपको कहानी अनोखा मालिक | Anokha Malik Moral Story in Hindi जरूर अच्छी लगी होगी अगर अच्छी लगे तो अपने बाकि के दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें इस कहानी को और असेही और भी कहानियां पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को फॉलो भी करें।

 

यह भी पढ़े:-

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *