Vijay Deverakonda Biography in Hindi | विजय देवरकोंडा का जीवन परिचय

Vijay Deverakonda Biography in Hindi | विजय देवरकोंडा का जीवन परिचय

हेलो फ्रेंड्स, आज के लेख में हम बात करेंगे विजय देवरकोंडा के जीवन परिचय के बारे में (Vijay Deverakonda Biography in Hindi), जिन्होंने अपने बेहतरीन एक्टिंग के दम पर साउथ सिनेमा में ही नहीं बल्कि पुरे देश में नाम कमा लिया है। आज विजय की हर मूवीज के रिलीज़ से पहले लोगों में अलग ही एक्साइटमेंट रहती है। विजय के इस मुकाम तक पहुंचाने का काम उनके फिल्म अर्जुन रेड्डी, गीता गोविंदम और डियर कामरेड ने सबसे ज्यादा किया है। इसके अलावा विजय की एक मूवी पेली चोपुलु नेशनल फिल्म अवार्ड फॉर बेस्ट फीचर फिल्म इन तेलेगु और फिल्मफेयर अवार्ड पर बेस्ट फिल्म भी चुना जा चूका है। विजय आज कितने कामियाब एक्टर है यह तो सभी जानते है, पर इस कामियाबी को पाने के लिए उन्होंने कितना संघर्ष और मेहनत किया है यह सभी नहीं जानते। इस लेख में हम विजय के जीवनी के बारे में तो जानेंगे ही, साथ ही जानेंगे उनके बारे में और भी इंटरेस्टिंग बातें।

 

विजय देवरकोंडा का जीवन परिचय – Vijay Deverakonda Biography in Hindi

 

विजय देवरकोंडा का जन्म और उनकी फॅमिली

विजय का जन्म 9 मई 1989 को अचमपेट तेलेंगाना में एक मिडिल क्लास फॅमिली में हुआ। उनके पिता का नाम गोवर्धन राव है जो की रक टेलीविशन राइटर थे और उनकी माँ का नाम माधवी है, जो की एक टुटर रह चुकी है। विजय का जन्म अचमपेट में हुआ था पर कुछ टाइम बाद वह अपने फॅमिली के साथ हैदरावाद रहने लगी।

विजय के फॅमिली में पेरेंट्स के अलावा उनका एक छोटा भाई भी है जिनका नाम आनंद देवरकोंडा है। आनंद विजय से पांच साल छोटे है। वह भी एक एक्टर है और कुछ तेलगु फिल्म में नजर आ चुके है। विजय देवरकोंडा का बचपन दूसरे बच्चों से अलग रहा। उनकी स्कूली पढाई श्री सत्य साईं हायर सेकेंडरी स्कूल से हुई, जो की एक बोडिंग स्कूल था। ज्यादातर बच्चे अपने माँ-बाप को छोड़कर बोडिंग स्कूल में नहीं जाना चाहते है और विजय भी बचपन में ऐसा ही चाहते थे।

बोडिंग स्कूल में रहने के बाद विजय तेलगु भाषा बोलना बिलकुल भूल गए थे इसलिए उनके पेरेंट्स को भी उनसे बात करने के लिए इंग्लिश में बोलनी पड़ती थी। 10th तक बोडिंग स्कूल में पढाई करने के बाद वह अनंतपुर से वापस हैदराबाद आ गए और यहीं उन्होंने लिटिल फ्लावर जूनियर स्कूल से 12th तक की पढाई कम्पलीट की। और इसके बाद विजय ने बदरुका कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स से ग्रेजुएशन शुरू कर दी।

 

एक्टिंग में करियर और उनकी फिल्में

स्कूल छोड़ने के बाद विजय का इंटरेस्ट फिल्मो में बहुत बढ़ गया और वह एक्टिंग में करियर बनाने के बारे में सोचने लगे। विजय की ग्रेजुएशन चल तो रही थी पर उन्हें पढाई में बिलकुल भी इंटरेस्ट नहीं था और न ही वह कॉलेज में क्लास लेने जाया करते थे। वह अपना ज्यादातर समय घर पर ही बिताते थे।

विजय को हर समय घर पर बैठा देख उनके पिता ने उन्हें गुस्से में कहा कि अगर तुम्हे घर पर ही बैठना है तो पढाई में मेरे पैसे बर्बाद क्यों कर रहे हो। विजय पहले से फ्रस्टेटेड थे, उन्हें अपने पापा की बात बहुत बुरी लगी और पापा को बुरा फील कराने के लिए विजय ने कहा कि इतना ही पैसा है जब तो आप मुझे न्यूयोर्क के एक्टिंग स्कूल में क्यों नहीं एडमिशन दिलवा देते। अगर मुझे एक्टिंग सिखने को मिले तो निश्चित ही मैं आपको एक्टर बनकर दिखाऊंगा।

विजय को पता था कि उनके पापा के पास इतना पैसा नहीं है जो उन्हें न्यूयोर्क भेज सके। विजय के पापा ने उस टाइम तो विजय को कुछ नहीं बोला, पर थोड़े टाइम बाद उन्होंने विजय से कहा कि न्यूयोर्क तो तुम्हे हम नहीं भेज पाएंगे लेकिन अगर तुम्हे एक्टिंग सीखनी है तो यहीं पर एक अच्छे से थिएटर में एडमिशन करा सकते है। विजय अपने पापा के इस बात पर राजी हो गए। विजय ने वह थिएटर ज्वाइन कर लिया और एक्टिंग सीखना शुरू कर दी।

विजय का टैलेंट अब सामने आने लगा इसलिए उन्हें कुछ सीरियल्स में कुछ छोटे-छोटे रोल मिले। कुछ टाइम बाद वह एक्टिंग में काफी बेहतर हो गए और फिर उन्होंने फिल्मो में ऑडिशन देना शुरू कर दिया। काफी ऑडिशन देने के बाद विजय को साल 2011 में रवि बाबू के डायरेक्शन में बनी रोमांटिक कॉमेडी मूवी में ब्रेक मिल गया।

विजय को लगा कि अब उनका स्ट्रगल खत्म हो गया है और अब उन्हें फिल्मे आसानी से मिल जाएगी, पर ऐसा बिलकुल नहीं हुआ। उनकी पहली मूवी सक्सेस तो रही पर उन्हें उन्हें वह पहचान नहीं दिला सकी जिससे उनके फिल्मो में मांग होती।

2011 में पहली मूवी करने  के बाद विजय को 4 साल तक कोई फिल्म नहीं मिली। हालाँकि 2012 में जरूर Life is Beautiful में उन्हें स्पेशल ऍपेरेसन्स के लिए लिया गया लेकिन 4 साल तक उन्हें कोई सपोर्टिव रोल नहीं मिला। विजय उस समय एक्टिंग से पीछे हटकर दूसरे जॉब के बारे  में भी सोचने लगे थे क्यूंकि विजय अपने घर से बहुत दूर रहा करते थे और उनके लिए खर्चा चलाने में भी पैसा कम पड़ने लगे थे।

मन में पीछे हटने के विचार और पैसों के कमी के बाद भी विजय ने खुद इम्प्रूव करना जारी रखा और उसी समय साल 2015 में उन्होंने एवढे सुब्रमण्यम फिल्म का ऑडिशन दिया। इस फिल्म में विजय को एक सपोर्टिंग रोल के लिए सेलेक्ट कर लिया गया। मूवी में उनका सपोर्टिंग रोल जरूर था पर यह सपोर्टिंग रोल उनके करियर के लिए टर्निंग पॉइंट साबित हुआ।

इस मूवी में विजय की एक्टिंग सबको बहुत अच्छी लगी। इसी मूवी से न सिर्फ ऑडियंस को विजय पसंद आए बल्कि कई फिल्ममेकर भी प्रभावित हुए। कुछ टाइम बाद उन्हें इस रोल से 3 अच्छी फिल्म ऑफर हुई जिनमें उन्हें लीड रोल करना था। उन 3 फिल्मों में पहली मूवी 2016 में आई पेली चोपुलु, यह मूवी बहुत बड़ी हिट साबित हुई। केवल एक करोड़ में बनी इस मूवी ने बॉक्स ऑफिस में लगभग 30 करोड़ का बिज़नेस किया। यह मूवी एक रियल लाइफ इंसिडेंट पर बनाई गई थी जिस में एक्टिंग, डायरेक्शन, स्टोरी, म्यूजिक सभी कमाल की थी और विजय की इस मूवी को नेशनल अवार्ड भी दिया गया।

2017 में विजय को लीड रोल अर्जुन रेड्डी के लिए सेलेक्ट किया गया। अर्जुन रेड्डी एक ब्लॉकबास्टर साबित हुई जिसने विजय को भारत में कभी न खत्म होने वाली प्रसिद्धि दिला दी। अर्जुन रेड्डी 5 करोड़ रूपए में बनी थी जिसने बॉक्स ऑफिस पर लहभग 50 करोड़ का बिज़नेस किया। अर्जुन रेड्डी मूवी विजय के लिए लाइफ चेंजिंग रही और सिर्फ स्टोरी ही नहीं बल्कि विजय की परफॉरमेंस भी कमाल की थी।

विजय ने इस मूवी से पहले कभी स्मोकिंग नहीं की थी, पर इस रोल के लिए उन्होंने स्मोकिंग करना सीखा। उन्हें स्मोकिंग करना पसंद नहीं था इसलिए जब स्मोकिंग के सिन लिए जाते थे तो उन्हें काफी इरिटेशन होती थी। जब मूवी की शूटिंग खत्म हो गई तो उन्होंने स्मोकिंग करना छोड़ दिया।

इस फिल्म के लिए विजय को फिल्मफेयर अवार्ड फॉर बेस्ट एक्टर का अवार्ड मिला और इसके अलावा और भी कई अवार्ड मिले।

अर्जुन रेड्डी मूवी से विजय को बहुत तारीफ तो मिली, इसके बाद कई लोगों ने उन पर निशाना साधते हुए कहा कि ऐसी फिल्मों में यूथ में गलत मैसेज जाता है। विजय से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि लोग हमेशा गलत पर ज्यादा ध्यान क्यों देते है, मूवी में उनका रोल एक टॉप मेडिकल स्टूडेंट और ईमानदार सर्जन का भी तो, क्या यूथ को इससे कोई सिख नहीं मिलती।

डिरेक्टर संदीप को जब इस मूवी का हिंदी रीमेक बनाने का आईडिया आया तो उन्होंने कबीर सिंह मूवी में लीड रोल सबसे पहले विजय देवरकोंडा से ही कहा, पर विजय ने यह रोल करने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि वह एक ही जैसे कॅरेक्टर दो बार नहीं करना चाहते। इसके बाद अर्जुन रेड्डी की रीमेक कबीर सिंह का लीड रोल शहीद कपूर को दे दिया गया।

अर्जुन रेड्डी के बाद विजय को बहुत सारे फिल्म के ऑफर आने लगे। और इसलिए उन्होंने साल 2018 में 5 फिल्मों में काम किया। इन 5 फिल्मों में 4 सुपरहिट रही और गीता गोविंदम तो इतनी बड़ी हिट रही कि इसने 125 करोड़ रूपए से भी ज्यादा का बिज़नेस किया। यह मूवी केवल 5 करोड़ में बनी थी और यहीं से विजय को उनके फैंस ने लवर बॉय (Lover Boy) का नाम दिया।

2019 में विजय की 2 फिल्मे रिलीज़ हुई जिस में से एक फिल्म था डियर कामरेड। इस मूवी ने कलेक्शन तो बहुत ज्यादा नहीं किया पर जिसने भी यह मूवी देखि, खुदको मूवी की तारीफ करने से नहीं रोक पाया। और जब इस मूवी को हिंदी में डब्ड करके यूट्यूब में रिलीज़ किया गया तो हिंदी ऑडियंस द्वारा गजब का रेस्पोंस आया और यह मूवी भी विजय की सुपरहिट मूवीज  में शामिल हो गई।

साल 2020 में विजय की राशि खन्ना के साथ वर्ल्ड फेमस लवर मूवी रिलीज़ हुई, जो तेलगु में तो नहीं लेकिन हिंदी भाषा में काफी पसंद की गई।

इसके अलावा साल 2021 में विजय की लिगर मूवी आने वाली है जिसके लिए उनके फैंस काफी एक्साइटमेंट है, क्यूंकि लिगर मूवी में विजय के साथ बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे लीड रोल में आने वाली है।

 

विजय के लाइफ से जुडी कुछ इंटरेस्टिंग बातें

विजय और उनके लाइफ से जुडी कुछ इंटरस्टिंग बातें जो शायद बहुत से लोगों को नहीं पता होगी –

  1. विजय को अर्जुन रेड्डी मूवी के लिए फिल्मफेयर अवार्ड मिला जो की उन्होंने सेल कर दिया था। यह अवार्ड 25 लाख रूपए में बिका जो रूपए उन्होंने सी एम रिलीफ फंड में दान कर दिए। जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अवार्ड तो मुझे मिल चूका है और अब इस ट्रॉफी को घर में रखने से अच्छा है कि जरूरतमंद के काम में दिया जाए।
  2. विजय के इंस्टाग्राम में लभगग 12.3 m फोल्लोवेर्स और ट्विटर पर 2.2 m फोल्लोवेर्स है, लेकिन विजय किसी एक को भी न ट्विटर पर न इंस्टाग्राम पर फॉलो करते है।
  3. विजय की सबसे बड़ी हिट मूवी तो गीता गोविंदम है लेकिन बहुत से लोग मानते है कि एवढे सुब्रमण्यम भी उनके लाइफ की सबसे बड़ी फिल्मों में से एक है, क्यूंकि इस मूवी ने विजय को वह पहचान दी जिसके बाद उन्हें लीड रोल के ऑफर आने लगे। अगर उन्हें इस फिल्म में सपोर्टिंग रोल नहीं मिलता तो पता नहीं कब उनका स्ट्रगल खत्म होता।
  4. विजय ने अपने एक बर्थडे पर आइसक्रीम भरकर ट्रक घुमाया और खुद ही फैंस को आइसक्रीम बांटी।
  5. विजय का एक खुद का प्रोडक्शन कंपनी है जिसका नाम “King of The Hell Production” है। विजय इस प्रोडक्शन के माध्यम से नए फिल्ममेकर्स और एक्टर्स को प्रमोट करना चाहते है।
  6. विजय का खुद का एक कपड़ों का ब्रांड भी है जिसका नाम Rowdy है।
  7. विजय के फेवरेट एक्टर है धनुष, अल्लू अर्जुन और रणवीर कपूर।

 

तो फ्रेंड्स यह थी विजय देवरकोंडा (Vijay Deverakonda Biography in Hindi) की संघर्ष से भरी एक। हम उम्मीद करते है आपको इस लेख से बहुत सी जानकारी मिली होगी विजय के बारे में।

 

यह भी पढ़े:-

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *