जादुई घोडा की कहानी | Magical Horse Unicorn Story in Hindi

जादुई घोडा की कहानी | Magical Horse Unicorn Story in Hindi

 

जादुई घोडा की कहानी

Magical Horse Unicorn Story in Hindi

 

एक लंबे समय पहले जो नामक एक किसान रहता था। एक दिन जो खेत में काम कर रहे पशुओं के लिए पानी लाने गया, तब उसने घास की ढेर में कुछ  देखा। जब वह पास गया तो उसने देखा कि वह नन्हा सा घोडा था, जो शायद अकेले और खोया हुआ था। जो ने देखा कि इस घोड़े में कुछ तो अलग था मगर वह क्या था उसको पता नहीं चल रहा था।

 

जो उसे घोड़ासा लेकर गया और उसे एक छोटी सी बिस्तर में लगाया। जो ने उसे प्यारी नजर से देखा और फैसला किया कि उसे वह ईव के नाम से पुकारेगा। जैसे महीने बीते, जो ने युवा घोड़े को बढ़ते हुए देखा। उसने ईव में अंतर देखना शुरू किया। वह बाकि घोड़ो की तरह नहीं थी। और जब वह पूरी तरह से बड़ी हुई तो जो उसकी सुंदरता देख चौंक गया।

 

ईव की त्वचा बादल जैसी सफेद और उसके बाल इंद्रधनुष जैसे रंगीले थे। उसके बारे में एक सबसे सुंदर चीज, उसके माथे पर एक लंबी नुकीली चीज थी। ईव जैसी बढ़ती गई, जो और बाकि पशुओं की ओर उसका प्यार भी बढ़ता गया। काम के एक लंबे दिन बाद, ईव घोड़ासा में चली गई और उसने देखा कि चारों ओर घोड़ों के साथ कुछ अलग था। वे बैचेन थे और असहाय थे। मगर ईव ज्यादा नहीं सोची और अपने स्थान में जाकर सो गई।

बहुत देर बाद में ही, ईव सुबह-सुबह एक भयानक आवाज सुनकर जाग उठी। उसने देखा कि सारे घोड़े घोड़ासा से बाहर आए और खेत से बाहर भाग रहे थे। उसने घोड़ों की गति को पकड़ने की कोशिश की यह पूछने के लिए कि वे सब कहाँ जा रहे थे और क्या कर रहे थे। लेकिन किसी ने भी उसे जवाब नहीं दिया और बस आगे देखकर भागते गए। वह यह देख चौंक गई कि वे सब कुछ कह रहे थे।

 

ईव ने फिर देखा कि वे सब सिर्फ एक ही दिशा में भाग रहे थे। अचानक सभी घोड़े हरे हरे घासों को पार करके एक जगह पर पहुँचे, जहाँ ईव ने एक युवा लड़की को कालीन पर बैठे एक अजीब दिखने वाले बक्से को हाथ में पकडे हुए देखा था। उस बक्से के शीर्ष पर एक छेद था। बक्से संगीत बाहर आ रहा था और ईव को समझ आया कि वे सब एक जादुई मंत्र के ताहत में थे और उस संगीत की दिशा की ओर जा रहे थे।

 

ईव उलझी हुई थी, क्यूंकि उसको समझमे नहीं आया कि वह क्यों इस जादुई मंत्र की ताहत में नहीं आई थी। तब उसे समझ आया कि वह बाकियों से अलग थी। पास में उसे पानी का एक छोटा तालाब दिखा और उसमे उसने अपने आप को देखा और तब उसे अपने आप का अंतर दिखा। उसने अपनी सफेद त्वचा और माथे पर लंबी नुकीली चीज देखि। उसने फैसला किया कि वह अपने दोस्तों को बचाएगी, भले ही वह उससे अलग ही क्यों न हो। उसने उस लड़की के जाने का इंतजार किया और किसी को बक्से के पास जाने नहीं दिया। मगर वह लड़की चाह नहीं रही थी, क्यूंकि वह सारे घोड़ों को लेकर जाना चाहती थी, ईव को भी।

ईव धीरे से उस लड़की की ओर बढ़ी और अपनी लंबी नुकीली चीज से लड़की के हाथ में रखे बक्से को गिरा दिया। बक्सा निचे गिर गया। तब ईव ने देखा कि वह बक्से का आकर घोड़े की खुर की तरह थी, लेकिन कोई भी अन्य घोडा नहीं। उसका आकर बिलकुल ईव के खुर जैसा था। इसलिए उसने अपना पैर उठाया और अपना खुर उस बक्से के ऊपर बने छेद में डाला। अचानक वह संगीत बंद हो गया।

 

बाकि के घोड़े होश में आए और यह देख दंग रह गए कि वह वे सब वहां कैसे पहुंचे। लड़की बक्से की ओर भागी वापस संगीत बजाने के लिए, मगर तब तक देर हो चूका था। सारे घोड़े तेजी से अपने घोड़ासा की तरफ भागते गए ईव के साथ। ईव भागते हुए मुड़के देखि और मुस्काई। वह अलग जरूर थी, मगर उसने अपने दोस्तों को बचाकर अच्छा काम किया था।

 

दोस्तों आपको यह “जादुई घोडा की कहानी | Magical Horse Unicorn Story in Hindi” कहानी कैसी लगी निचे कमेंट के जरिए जरूर बताइएगा। और इस तरह के ढेर सारि कहानिया पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।

 

यह भी पढ़े:-

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *