True Story of Bhoot The Haunted Ship in Hindi

True Story of Bhoot The Haunted Ship in Hindi | भूत द हॉन्टेड शिप की सच्ची कहानी

आज के इस लेख में हम भूत द हॉन्टेड शिप ( True Story of Bhoot The Haunted Ship in Hindi) मूवी की सच्ची कहानी के बारे में बात करने वाले हैं। बहुत से लोगों को यह लगता है कि मूवी में जो कहानी दिखाई गई वह मुंबई के जुहू बीच वाली शीप पर बनी है और सी बार्ड शीप पर नहीं। इस लेख में हम आपको यह बताने वाले हैं कि मूवी असलमे कोनसे रियल इंसिडेंट पर बनी है या फिर इस मूवी की स्टोरी सिर्फ इमेजिनेशन है कोई रियल नहीं। तो चलिए इस लेख को शुरू करते हैं।

 

Story of Bhoot The Haunted Ship in Hindi

बात करीब 2011 की है जब 13 जून 2011 में मुंबई के जुहू बीच पर एक बड़ा सा जहाज आकर फंस गया जो की 145 मीटर लंबा था और इस जहाज  का वजन तकरीबन 9,000 टन था। इस जहाज पर एक फ्लैग भी था जो की सिंगापुर का था। लेकिन इस जहाज पर रहस्यमय बात यह थी कि इस जहाज पर एक भी इंसान नहीं था।

 

यह जहाज पूरी तरीके से खाली था। तो हम सबके मन में यह प्रश्न उठता है कि बिना किसी चालक के यह जहाज यहाँ आकर कैसे फंस गया। जब इन्वेस्टीगेशन किया गया तब पता चला कि यह जहाज श्रीलंका के कोलोंबो से गुजरात के अलंग स्केपयार्ड में चेनों से बांधकर ले जाया जा रहा था लेकिन गुजरात पहुँचने से पहले ही बीच में तूफ़ान आ जाने से पहले ही यह चेन्स टूट गई उसके बाद इतने बड़े जहाज को वहाँ से आगे ले जाना संभव नहीं हुआ इसलिए उस जहाज को वही छोड़ दिया गया और वह जहाज बहते हुए जुहू बीच पर आकर पहुँचा।

 

हैरानी की बात तो यह थी कि यह जहाज बहते हुए बांद्रा सीलिंग से नहीं टकराई और नहीं ही आयल रिफाइनरी से जबकि यह दोनों चीजे जुहू बीच से बहुत करीब थी। इसे देखने के लिए जुहू बीच पर लोगों की भीड़ जमा हो चुकी थी। लोग उसे यहाँ देखने आते फोटोज और सेल्फीज़ क्लिक करते और बीच के किनारे बैठकर इस सुंदर नज़ारे का मजा उठाते। लेकिन जितना ज्यादा लोग इसे देखने आने लगे उतनी ज्यादा इस जहाज के बारे में कहानियां बनने लगी कि यह जहाज भूतिया है, यह जहाज श्रापित है, बिना चालक के यह जहाज कैसे चल रही थी और भी बहुत कुछ।

 

 

इस  जहाज के इन्वेस्टीगेशन करने पर यह भी पता लगा कि इस जहाज ने अपने काफी सारे नाम बदले हैं। दरहसल वह इसलिए बदलते थे क्यूंकि जब भी इस जहाज को कोई लंबे समय तक के लिए किराए पर लेता तो इसका नाम बदल देता। स्क्रैपिंग से पहले इसका लास्ट नाम MV Wisdom था। यह जहाज तकरीबन 26 साल पुराना था। तकरीबन 22 दिनों की कोशिशों के बाद इस जहाज को फाइनली जुहू बीच से गुजरात के अलंग ले जाया गया और इसकी स्क्रैपिंग की गई।

 

इस जहाज के ले जाने के बाद भी लोगों के मन में काफी सारे सवाल थे कि जब यह जहाज बहते हुए जुहू बेच आया था तो किसी ने देखा कैसे नहीं क्यूंकि जुहू बीच के पास में ही बांद्रा वाली सीलिंग और आयल रिफाइनरी है जिस पर बहुत सारी सिक्योरिटी गॉर्डस रहते हैं। उनके नजर में यह जहाज क्यों नहीं आया?

 

मूवी में इस इंसिडेंट की कुछ बातें ली गई है। आपने मूवी में देखा हो कि मूवी में इस शिप का नाम Sea Bird Ship रहता है और यह सच है  कि Sea Bird Ship की भी एक ऐसी ही रोमांचक स्टोरी है तो मेकर्स द्वारा कुछ बातें MV Wisdom से ली गई है और मूवी को इंटरस्टिंग बनाने के लिए हॉरर वाला पॉइंट Sea Bird Ship से।

 

 

उम्मीद करते हैं कि अब आपको समझ आ गया होगा इस मूवी के स्टोरी को लेकर। तो अगर आपको यह पोस्ट “True Story of Bhoot The Haunted Ship in Hindi” अछि लगी हो तो इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके अपना विचार भी जरूर बताइए।

 

यह भी पढ़े:-

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *