सोने का फूल | The Golden Flower Story in Hindi

सोने का फूल | The Golden Flower Story in Hindi

इस कहानी का नाम है “सोने का फूल | The Golden Flower Story in Hindi” उम्मीद है आपको यह कहानी जरूर अच्छी लगेगी।

 

सोने का फूल

The Golden Flower Story in Hindi

नॉर्वे के किसी छोटे से शहर में रुक्स और मैरी नामक दो भाई-बहन रहा करते थे। कुछ समय मैरी उस शहर से दूर एक खूबसूरत गाँव में रेहने चली गई। मैरी का मकान बहुत ही खूबसूरत था।रुक्स की बहन मैरी बहुत बूढी हो चली थी। पर उसके पास पैसे की कमी न थी। लेकिन इन सबके बावजूद मैरी एक अच्छी ज्योतिषी भी थी। वह अपने पास एक सुनहरे हंस को लेकर बैठी रहती थी और लोग उसके पास अपना भविष्य जानने के लिए आते रहते थे। लोग इसके बदले में  उसे उपहार और पैसे दिया करते थे।

 

एक दिन रुक्स जब अपनी बहन मैरी से मिलने उसके घर गया तो मैरी ने चिंतित होते हुए रुक्स से कहा, “रुक्स! लगता है अब मैं ज्यादा दिनों  तक जिन्दा नहीं रहूँगी। मुझे  तुम्हारी चिंता लगी रहती है क्यूंकि तुमने अपनी जिंदगी में पैसा इकट्ठा नहीं किया। तुम्हे इस कारण बहुत बुरे दिन देखने पड़ सकते हैं।”

 

मैरी की इस बात पर रुक्स ने कहा, “ओह, तुम मेरी चिंता न करो बहन। जब तक मैं थोड़ी बहुत बागवानी करता रहूँगा और जंगल सी लकडिया काटकर इकट्ठा करता रहूँगा मैं भूखा नहीं मर सकता, फिर मेरे पास मुर्गिया भी तो है।”

 

रुक्स की बात सुनकर मैरी की चिंता खत्म नहीं हुई। वह मन ही मन सोचने लगी एक दिन ऐसा जरूर आएगा जब रुक्स काम  करने की स्तिथि में नहीं होगा, उसमे आज की तरह मेहनत करने की क्षमता नही होगी और मैं भी उसकी मदद करने के लिए जिंन्दान  बची  तो मेरे भाई का क्या होगा? मेरे यही सोचते हुए अपने गोद में  सुनहरे हंस को लेकर बैठ गई। फिर उसने आँखें बंद किए और  यह सोचने लगी कई उसकी भाई रुक्स का भविष्य कैसा होगा।

 

मैरी को वह जंगल दिखा जहाँ उसका भाई लकडिया इकट्ठा करने जाता था। आँखें बंद करने पर उसे जंगल में एक मैदान सा दिखा, जहाँ सिर्फ एक गुलाब का फूल ऊगा हुआ था। गुलाब के पौधे पर बहुत चमक थी और पास में एक जादुई छड़ी पड़ी थी। मैरी ने सोचा जरूर यह कोई जादुई फूल का पौधा है। अगर मेरे भाई को यह मिल जाए तो उसे अपने जिंदगी में कोई परेशानी उठानी नहीं  पड़ेगी।

 

मैरी ने अपनी आँखें खोली और अपने भाई को बुलाया। जब रुक्स अपनी बहन मैरी के घर पहुँचा तब उसने रुक्स से कहा, “तुम अभी जंगल चले जाओ वहाँ तुम्हे एक खाली मैदान सा दिखेगा। वहाँ तुम्हे एक गुलाब का पौधा मिलेगा जिस पर एक चमकता हुआ गुलाब का फूल खिला हुआ है। पौधे के पास ही निशानी के तौर पर पड़ी हुई एक जादुई छड़ी भी रखी है। तुम पौधे को सावधानी से उखाड़कर घर ले आओ और उसे किसी गमले में लगा दो।”

 

 

उसके बाद मैरी ने रुक्स को एक रुमाल दिया जो की रेशम का बना था और कहा, “जब भी तुम्हे पैसे की परेशानी हो, तुम उस फूल को रुमाल से ढककर कहना “जैसा कहा  वैसा किया, परी ने सोने का  फूल दिया।” उस  समय फूल गमले के निचे गिर  पड़ेगा। और तुम्हे यह देखकर आश्चर्य होगा कि वह सोने में बदल गया है और तुम सोने के फूल के बदले में अपनी जरुरत की चीजे पा सकते हो। तुम उस पौधे की देखभाल अच्छे से करना। कुछ ही दिनों में तुम देखोगे कि एक और फूल निकल आया है। अब तुम जल्दी से जाकर उस गुलाब के पौधे को घर ले आओ।”

 

रुक्स काफी उत्सुक्तापूर्वक जंगल में गया। उसने पहले की तरह कुछ लकडिया इकट्ठे की फिर गुलाब के पौधे को सावधानीपूर्वक जमीन से उखाड़ लिया। रुक्स सोचने लगा जरूर ही मेरी बहन ने इसी पौधे के विषय में कहा था। जंगल में कोई भी गुलाब का फूल इतना ज्यादा चमतगार नहीं हैं। रुक्स के यह सोचते ही परी की जादुई छड़ी उसी समय वहाँ से गायब हो गई।

 

रुक्स गुलाब के पौधे को लेकर अपने घर आया और एक बड़े गमले में उसे यत्न से लगा दिया और फिर उस गमले को खिड़की की चौखट पर रख दिया जहाँ पौधे पर धुप पड़ती रहे। कुछ समय बाद मैरी की मृत्यु हो गई। रुक्स में भी इतनी शक्ति न थी कि वह जंगल से लकडिया इकट्ठा करके लाता और मुर्गियों की देखभाल करता। उसके बगीचे में भी काम नहीं होता था।

 

रुक्स ने अपनी बहन को बहुत याद किया फिर उसका दिया हुआ रुमाल निकाला और फूल पर उसे डालकर कहा., “जैसा कहा वैसा किया, परि ने सोने का फूल दिया।”

 

रुक्स का इतना कहना ही था कि गमले में ऊगा गुलाब का फूल नीचे गिर पड़ा। उसे यह देखकर बड़ा ही आश्चर्य हुआ कि गुलाब का फूल सोने में बदल गया था। रुक्स ने उस सोने के फूल को बाजार में जाकर बेच दिया और उससे मिले पैसो से वह अपनी जिंदगी आराम से गुजारने लगा। मैरी की कही मुताबिक रुक्स फिरसे पौधे की देखभाल अच्छे से करने लगा।

 

 

कुछ ही दिनों में फिर से एक गुलाब का फूल उस पेड़ में उग आया। रुक्स सोचने लगा कि अगर मुझे दोबारा फिरसे पैसोकी जरुरत पड़ी तो मैं बहन के बताएं हुए तरीके से फिरसे सोने के फूल को प्राप्त कर लूंगा।

 

अगर आपको यह कहानी “सोने का फूल | The Golden Flower Story in Hindi” पंसद आए तो इसे शेयर जरूर करिए और कमेंट करके बताइए जरूर कि आपको यह कहानी कैसे लगी।

 

अगर आप हिंदी में कोई लेख (Article) हमसे शेयर करना चाहते हैं जैसे की हिंदी कहानिया, प्रेरणादायक कहानिया, लव स्टोरीज तो आप हमारे Email – [email protected] पर हमसे संपर्क कर सकते हैं। हम उस लेख को आपके नाम और साइट के लिंक के साथ अपने साइट पर पब्लिश करेंगे।

 

यह भी पढ़े:-

 

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *