अकबर बीरबल की कहानी: सबसे सुंदर

अकबर बीरबल की कहानी: सबसे सुंदर | The Most Beautiful Akbar Birbal Story in Hindi

आज मैं आपको अकबर-बीरबल की जो प्रसिद्ध कहानी सुनाने जा रही हूँ वह है ” सबसे सुंदर” (The Most Beautiful Akbar Birbal Story in Hindi)

 

अकबर बीरबल की कहानी: सबसे सुंदर

 

राजा अकबर के दरबार में बहुत से दरबारी थे पर उनका मनपंसद था बीरबल। इस बात से बाकि दरबारी बहुत ही जलते थे। वे हमेशा बीरबल को राजा अकबर के सामने गिराने की कोशिश करते थे पर हमेशा नाकाम रहते थे। आज उन लोगों ने रानी के भाई हुसैन खान को अपना मोहरा बनाया था।

 

उन दरबारियों ने हुसैन खान को कहा, “आप रानी के भाई हो पर तब भी राजसभा में आपको कोई दर्जा नहीं दिया गया। जबकि आपको तो बीरबल का पद मिलना चाहिए।” हुसैन खान ने कहा, “अरे यह तो नामुमकिन है। मुझे वह पद भले की कितना भी भाता हो पर फिर भी बीरबल तो राजा के सबसे प्रिय व्यक्ति हैं।” दरबारियों ने कहा, “अरे क्यों नहीं आप अपनी बहन से राजा को कहलवाइए। राजा कभी भी रानी की बात नहीं टालेंगे।”

 

दरबारियों की बात मानकर हुसैन खान अपनी बहन के पास जाते हैं और अपनी इच्छा प्रकट करते हैं। वह रानी से मदद माँगते हैं। शाम में राजा अक्सर अपनी रानी से मिलने जाते हैं। वह बहुत ही दुखी और गंभीर मनोदिशा में रहती है।

 

राजा अकबर – प्रिय रानी आप इतनी दुखी क्यों लग रहे हैं? क्या बात है बताइए?”

 

रानी – मेरे भाई को आपके दरबार में कोई भी पद नहीं दिया गया है इससे मैं बहुत दुखी हूँ। आपको कुछ करना चाहिए।

 

राजा अकबर – कोई बात नहीं प्रिय मैं उसे एक पद से नवाजूंगा।

 

रानी बोली- नहीं मुझे मेरे भाई के लिए वही पद चाहिए जो बीरबल का है।

 

राजा अकबर – पर यह मुमकिन नहीं हैं बेगम। हुसैन खान तो बड़ा ही बेवकूफ और जिद्दी आदमी हैं।

 

रानी – जिम्मेदारी मिलने पर वह बेहतर हो जाएगा।

 

राजा अकबर – पर उसमें बीरबल जैसी बुद्धि भी तो होनी चाहिए, जिससे शाही प्रशासन में कुछ मदद मिल सके। साथ ही बीरबल को हटाने का कोई कारन भी नहीं हैं।

 

रानी – मेरे पास एक तरकीब है। कल शाम को आप बीरबल को मुझे शाही बगीचे में आपके साथ सैर करने के लिए लाने को कहिए। मैं इन्कार कर दूंगी और बीरबल मुझे राजी नहीं कर पाएगा। आप गुस्से में उसे बर्खास्त कर सकते हैं।

 

राजा अकबर मान गए और अगले शाम को वह बीरबल को बगीचे में बुलाते हैं।

 

राजा अकबर – बीरबल मेरी बेगम मुझसे बहुत नाराज हैं। क्या तुम उसे मनाकर मेरे साथ सैर कराने के लिए ला सकते हो? तुम  उसे खुश करने की कोशिश करना। अगर तुम उसे यहाँ नहीं ला पाए तो मैं तुम्हे बर्खास्त कर दूंगा और तुम्हारा पद अपने बीवी के भाई को दे दूंगा।

 

बीरबल को आभास होता है कि यह उसे निकालने की साजिश है। वह रानी के कक्ष में जाता है।

 

बीरबल – रानी साहेबा राजा ने आपसे गुजारिश की है कि….

 

तभी एक नौकर आता है और बीरबल के कान में धीरे से कुछ कहता है। रानी को बस अपने कान में सिर्फ दो ही शब्द सुनाई पड़ते हैं “सबसे सुंदर” . इतने में नौकर चला जाता है और बीरबल फिर रानी की तरफ मुड़ते हैं।

 

बीरबल – माफ कीजिए रानी साहेबा योजना थोड़ी सी बदल गई है।

 

यह बोलते ही बीरबल वहाँ से चला जाता है। रानी सबसे सुंदर शब्द बार-बार सुनने पर परेशान सी हो जाती है।

 

रानी – जैसे ही नौकर ने बीरबल से कहा बीरबल ने मुझे बगीचे में आने को कहने की बजाई रुक गया। हाय क्या राजा को सैर करने के लिए किसी दूसरी सुंदर महिला का साथ मिल गया? शायद इसलिए बीरबल ने योजना बदल दी।

 

इर्षा से रानी शाही बगीचे की तरफ जाती है। वहाँ पर वह राजा को अकेला पाती है। रानी को देखते ही राजा हैरान हो जाता है।

 

राजा अकबर – बेगम आप यहाँ क्या कर रही है? आपने तो कहा था कि आप बीरबल की बात बिलकुल नहीं मानेंगी। तो आप राजी कैसे हो गई?

 

रानी के पास इसका कोई जवाब नहीं था। बुद्धिमान बीरबल ने अपनी बुद्धि से अपनी पद प्रतिष्ठा बचा ली थी।

 

उम्मीद करता हूँ आपको अकबर बीरबल की यह कहानी “अकबर बीरबल की कहानी: सबसे सुंदर | The Most Beautiful Akbar Birbal Story in Hindi” जरूर पसंद आई होगी अगर आपको यह कहानी पसंद आए तो निचे कमेंट में जरूर बताएं और साथ ही हमारे इस ब्लॉग को सब्सक्राइब भी जरूर करें। धन्यवाद।

 

यह भी पढ़े:-

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *