दुनिया पर राज | Duniya Par Raj | Hindi Kahani With Moral

दुनिया पर राज | Duniya Par Raj | Hindi Kahani With Moral

Duniya Par Raj Hindi Kahani With Moral

 

दुनिया पर राज | Duniya Par Raj | Hindi Kahani With Moral

दुनिया पर राज

बहुत समय पहले की बात है, एक जंगल था जहाँ एक पैराकीट (तोता) रहता था। उस जंगल में वह अपनी तरह का अकेला पक्षी था जिसके लिए सभी उसकी तारीफ करते थे।

 

एक दिन जंगल के सभी पक्षी उससे मिलने आएं। कौए ने कहा, “प्यारे पैराकीट तुम तो और भी ज़्यादा सुंदर होते जा रहे हो।” एक छोटी चिड़िया बोली, “तुम्हारी चमकता पंख और लाल चोंच बहुत सुंदर हैं इन्हे तो हम देखते ही रह जाते हैं।”

 

पैराकीट बोली, “अब मेरी कितनी तारीफ करोगे, क्या तुम्हे में सचमे इतना सुंदर लगता हूँ?” कौआ बोला ,”बिलकुल, हमें तुमसे सुंदर कुछ दीखता ही नहीं।” कबूतर ने कहा, “इसलिए हम सब पक्षियों ने तुम्हे अपना राजा बनाने के बारे में सोचा हैं।”

 

पैराकीट बोली, “क्या तुम सच कह रही हो?” सभी पक्षियों ने कहा, “हाँ हाँ बिलकुल।”

 

पैराकीट ने मन ही म,मन सोचा, “यह लोग मेरी कितनी तारीफ कर रहे हैं लेकिन इस छोटी से जंगल का राजा बनने का क्या फ़ायदा अगर मैं इतनी सुंदर हूँ तो मुझे सारी दुनिया का राजा बनना चाहिए।” यह सोचकर पैराकीट ने उनसे कहा, “आपके प्रस्ताव के लिए सुक्रिया लेकिन इस बारे में मुझे सोचने दीजिए मैं आपको कल बताऊँगा।” यह बोलकर पैराकीट वहाँ से उड़ गया।

 

 

वहाँ से निकलने के बाद पैराकीट ने मन ही मन खुद से कहा, “अब मुझे यह जंगल जल्द से जल्द छोड़ देना चाहिए। मैं बाहर दुनिया में जाऊँगा और तभी मैं इस दुनिया का राजा बन पाऊँगा।”

 

पैराकीट उड़ते-उड़ते आ पहुँचा एक बहुत ही सुंदर जंगल पर। वहाँ एक चिड़िया उसके पास आई और फिर उड़ गई। पैराकीट सोचने लगा कि उस पक्षी ने उसकी तारीफ क्यों नहीं की।

 

कुछ समय बाद उस जंगल के बाकि पक्षी भी उसके पास आएं और उससे कहा , “कौन हो तुम?” पैराकीट ने कहा, “मैं इस दुनिया का सबसे सुंदर पक्षी हूँ और मैं बहुत ही दूर से इस जंगल में आया हूँ। मैं चाहता हूँ कि तुम सब मुझे अपना राजा बनालो क्यूंकि मैं सबसे ज़्यादा सुंदर हूँ।”

 

पैराकीट की बातें सुनकर उस जंगल के सभी पक्षी उस पर हँसने लगे और कहा, “ओ बेवकूफ नादान पक्षी, तुम्हे लगता है तुम सबसे सुंदर हो, क्या तुमने हमारे तोते को देखा है? उस पेड़ पर देखो वह वहाँ बैठा हैं।”

 

 

पैराकीट ने उस तोते को देखा और वह तोता उससे भी बहुत ज्यादा खूबसूरत था। उसके पंख रंग बिरंगे थे। जंगल के सभी पक्षियों ने कहा, “तुम यहाँ से वापस चले जाओ इससे पहले की हम तुम्हारे एक-एक करके नोचले।”

 

पैराकीट डरके मारे वहाँ से भाग गया और वापस अपने जंगल में आ गया और उस जंगल का राजा बनकर राज करने लगा।

 

इस कहानी से सीख, Moral of The Story: 

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि दूसरे देश के मुकाबले हमें अपने देश में ज़्यादा इज़्ज़त मिलती है।

 

अगर आपको यह कहानी  “दुनिया पर राज | Duniya Par Raj | Hindi Kahani With Moral” पसंद आई हो तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ भी शेयर करें और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें।

 

यह भी पढ़े 

जादुई नदी की कहानी

आलसी कोयल की कहानी

एक ईमानदार किसान

कंजूस सेठ की कहानी 

रेगिस्तान में पानी

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *