आखरी प्रयास | Best Motivational Story in Hindi

आखरी प्रयास | Best Motivational Story in Hindi

 Best Motivational Story in Hindi

 

आखरी प्रयास 

एक समय की बात है, एक राज्य में एक प्रतापी राजा रहता था। एक दिन उसके दरवार में एक विदेशी आगंतुक आया और उसने राजा को एक सुंदर पत्थर उपहार स्वरुप प्रदान किया।

 

राजा वह पत्थर देख बहुत ज़्यादा प्रस्सन हुआ। उसने उस पत्थर से भगवान विष्णु की प्रतिमा का निर्माण कर उसे राज्य के मंदिर में स्थापित करने का सोचा और प्रतिमा निर्माण का कार्य राज्य के महामंत्री को सौंप दिया।

 

महामंत्री गाँव के सर्वश्रेष्ठ मूर्तिकार के पास गए और उसे वे पत्थर देते हुए बोले, “महाराज मंदिर में भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित करना चाहते हैं। सात दिन के भीतर इस पत्थर से भगवान विष्णु की प्रतिमा तैयार कर राजमहल पहुँचा देना। इसके लिए तुम्हे 50 स्वर्ण मुद्राए दी जाएगी।”

 

50 स्वर्ण मुद्राये की बात सुनकर मूर्तिकार खुश हो गया और महामंत्री के जाने के बाद प्रतिमा का निर्माण कार्य प्रारंभ करने की उद्देश्य से उसने अपना औजार निकाला। अपने औजार में से उसने एक हतोड़ा लिया और पत्थर तोड़ने के लिए उस पर हतोड़े से वार करने लगा।

 

 

हतोड़ा मारने के बाद भी पत्थर वैसे का वैसा ही रहा। मूर्तिकार ने हतोड़े से कई बार पत्थर पर वार किए किंतु पत्थर नहीं टुटा। 50 बार प्रयास करने के बाद मूर्तिकार ने अंतिम बार प्रयास करने के उद्देश्य से हतोड़ा उठाया किंतु यह सोचकर हतोड़े से प्रहार करने के पूर्व ही उसने हाथ खिंच लिया। वह सोचने लगा कि जब 50 बार वार करने से पत्थर नहीं टुटा, तो अब क्या टूटेगा।”

 

मूर्तिकार पत्थर लेकर वापस महामंत्री के पास गया और उसे यह कह वापस कर आया कि इस पत्थर को तोडना नामुमकिन हैं इसलिए इससे भगवान विष्णु की प्रतिमा नहीं बनाई जा सकती।”

 

महामंत्र को राजा का आदेश हर हाल में पूर्ण करना था इसलिए उसने भगवान विष्णु की प्रतिमा निर्माण का कार्य गाँव के एक साधारण मूर्तिकार को सौंप दिया।

 

 

पत्थर को लेकर मूर्तिकार ने महामंत्री के सामने ही उस पर हतोड़े से प्रहार किया और वे पत्थर एक बार में ही टूट गया। पत्थर टूटने के बाद मूर्तिकार प्रतिमा बनाने में जुट गया। इधर महामंत्री सोचने लगा कि काश पहले मूर्तिकार ने एक आखरी प्रयास और किया होता तो सफल तो हो ही गया होता और 50 स्वर्ण मुद्राओं को हक़दार होता।

 

तो दोस्तों इस कहानी से हमें यह सीख मिलती हैं कि हमारे जीवन में भी ऐसी बहुत सी परिस्तिथिया होती हैं जिसे कई बार किसे कार्य को करने से पूर्व या किसी समस्या के सामने आने पर उसका निवारण करने के पूर्व ही हमारा आत्मविश्वास डगमगा जाता हैं और हम प्रयास करे बिना हार मान लेते हैं। कई बार हम 1-2 प्रयास पर असफलता मिलने पर आगे प्रयास करना छोड़ देते हैं जबकि हो सकता है कि कुछ प्रयास और करने पर कार्य पूर्ण हो जाता है या समस्या का समाधान हो जाता हैं। यदि जीवन में सफलता प्राप्त करनी है तो बार-बार असफल होने पर भी तब तक प्रयास करना नहीं छोड़ना चाहिए जब तक सफलता नहीं मिल जाती। क्या पता जिस प्रयास को करने के पूर्व हम अपना हाथ खिंचले वहीं हमारा अंतिम प्रयास हो और उससे हमें कामियाबी प्राप्त हो जाए।

 

तो फ्रेंड्स आपको यह कहानी “आखरी प्रयास | Best Motivational Story in Hindi” कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताए और अच्छा लगे तो शेयर भी जरूर करे।

 

यह भी पढ़े 

एक लोटा दूध
राजा मिडास और गोल्डन टच की कहानी
मौत की कहानी
डरपोक पत्थर
19 रूपए का चमत्कार

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *