आलसी कोयल की कहानी | The Lazy Cuckoo Story in Hindi

आलसी कोयल की कहानी | The Lazy Cuckoo Story in Hindi

 

The Lazy Cuckoo Story in Hindi

 

आलसी कोयल की कहानी

एक जंगल में एक घना बरगद का पेड़ था जिस पर एक कौआ अपनी पत्नी के साथ रहता था। पत्नी ने कहा, “सुनो जी अब आपको ज़्यादा दाने चुभकर लाने पड़ेंगे। कौआ बोला, “मगर क्यों?” कौए की पत्नी बोली, “क्यूंकि मैं माँ बनने वाली हूँ बहुत ही जल्दी अंडे देने वाली हूँ।”  कौआ बोला, “अरे यह तो बहुत ही अच्छी खबर हैं।”

 

थोड़े दिन बाद कौए की पत्नी चार अंडे दे देती हैं। उसी बरगद के पेड़ पर एक कोयल आकर रहने लगती हैं। वह कौए की पत्नी से दोस्ती कर लेती है और वह भी अपने अंडे देने वाली होती हैं।

 

कौए की पत्नी ने कोयल से कहा, “अरे कोयल बहन तुम अपने बच्चों के लिए घोंसला क्यों नहीं बना लेती हो।” कोयल बोली, “तुम्हारा घोंसला है न बहन। हमारे बच्चे साथ-साथ रहेंगे।” कौए की पत्नी बोली, मेरे बच्चे तो जल्दी ही अंडे से निकलने वाले हैं बहन आलस मत करो और अपना भी एक घोंसला बनालो।” कोयल बहुत ही आलसी और कामचोर थी।

 

 

एक दिन जब कौआ और उसकी पत्नी बाहर गए हुए थे वह अपने अंडे उनके घोंसले में डाल देती है। कौआ और उसकी पत्नी यह देखकर बहुत गुस्सा होते हैं लेकिन कोयल की हालत देखते हुए वह कुछ भी नहीं बोलते और चुपचाप अपने लिए ऊपर की डाल पर अलग घोंसला बना लेते हैं और अपने सारे अंडे वहाँ से लेकर चले जाते हैं।”

 

कोयल मन ही मन बोली, “अरे बाह! मुझे तो काम भी नहीं करना पड़ा और मुझे बना बनाया घोंसला भी मिल गया। अब मैं और मेरे बच्चे इस घोंसले में ख़ुशी-ख़ुशी से रहेंगे।” कौए की पत्नी बोली, “बहन, यह घोंसला सिर्फ हमने तुम्हारे बच्चों के लिए छोड़ा है।”

 

कुछ दिनों बाद जंगल में एक शिकारी आता है। वह निचे की डाल पर कोयल की घोंसले को देखकर उस पर अपना जाल फेंक देता है। कोयल उसके जाल में फँस जाती है और उसका घोंसला निचे गिर जाता हैं और साथ ही साथ सारे अंडे भी टूट जाते हैं।

 

 

ऊपर की डाल पर बैठी कौआ और उसकी पत्नी यह सब देखते रहते हैं। उनके सभी अंडे सुरक्षित होते हैं।

 

इस तरह से हम देखते हैं कि कोयल अपनी कामचोरी और आलसी स्वभाव की बजह से मुसीबत में फँस जाती है। अगर वह कामचोरी नहीं करती तो उसकी यह हालत कभी नहीं होती।

 

इस कहानी से सीख, Moral of The Story:

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि कामचोरी और आलास करने वाले लोग अंत में पछताते हैं इसलिए आलस कभी भी न करे।

अगर आपको यह कहानी “आलसी कोयल की कहानी | The Lazy Cuckoo Story in Hindi” पसंद आई हो तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ भी शेयर करें और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें।

 

यह भी पढ़े 

रेगिस्तान में पानी

गधा बेचना है

बाह रे मुल्ला तेरा जवाब नहीं

कंजूस सेठ की कहानी 

एक ईमानदार किसान

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *