3 Best Motivational Success Story in Hindi

3 Best Motivational Success Story in Hindi | यह 3 कहानियां आपकी ज़िंदगी बदल सकती है

 

3 Best Motivational Success Story in Hindi

आज के इस लेख में मैं आपको 3 ऐसी सक्सेस स्टोरी (3 Best Motivational Success Story in Hindi) सुनाने वाली हूँ जो आपके अंदर एक जबरदस्त आग लगाने वाली है। अगर आप अपनी लाइफ में कुछ भी अचीव करना चाहते हो तो यह 3  स्टोरी जरूर सुनिए क्यूंकि कुछ भी अचीव करने के लिए हमारे अंदर एक आग का होना बहुत जरुरी है।

 

 Arnold Schwarzenegger – Best Motivational Success Story in Hindi

यह कहानी शुरू होती है 30 जुलाई, 1947 को जब ऑस्ट्रिया में एक बच्चे का जन्म हुआ। उसके पिता पुलिस ऑफिसर थे। छोटी-छोटी गलतियों पर उसे बुरी तरह से पीटते थे। कभी बाल खींचते तो कभी बेल्ट से मारते। बस उसकी माँ थी जो उसे आगे बढ़ने के लिए उसे पूरा सपोर्ट करती थी।

 

उस लड़के ने मात्र 14 साल की उम्र में जिम करना शुरू कर दिया। वह कई घंटे जिम में बिताने लगा। उसके दिमाग में सिर्फ एक ही चीज थी कि मुझे पुरे बिल्डिंग में पार्टिसिपेट करना हैं। जब वह 18 साल का हुआ तो उसके कंट्री के हर एक व्यक्ति की तरह कम्पलसरी उसे भी आर्मी जॉइन करनी पड़ी।

 

लेकिन उसने सर्विस के दौरान भी वर्कआउट करना नहीं छोड़ा और कुछ दिनों बाद अपने मेहनत के दम पर उसने जूनियर मिस्टर यूरोप कांटेस्ट जीता। लेकिन वह बंदा सिर्फ यही पर नहीं रुका। उसने अपना नेक्स्ट टारगेट स्टार्ट किया मिस्टर यूनिवर्स बनने का।

 

वह अमेरिका जाकर ट्रेनिंग लेने लगा और वहाँ पर अपने दूसरे अटेम्प् में मिस्टर यूनिवर्स बनना गया। लेकिन वह बंदा यहाँ पर भी नहीं रुका। वह मात्र 23 साल की उम्र में मिस्टर ओलंपिया बन गया जो की एक वर्ल्ड रिकॉर्ड था। लेकिन वह बंदा अभी भी नहीं रुका। उसने फिर एक सपना देखा हॉलीवुड मूवीज में एक्टिंग करने का। काफी मेहनत के बाद उसे एक फिल्म मिली “The Long Goodbye” लेकिन इस फिल्म में उसका एक भी डायलॉग नहीं था।

 

1977 में उसे फिर एक फिल्म मिली ‘Pumping Iron” जिसने उसे पहचान दिलाई और फिर 1982 में उसे फिल्म मिली “Conan The Barbarian” जो की सुपरहिट रही। उसके बाद उसने कई फिल्मो में काम किया और अब उसने राजनीती में जाने का सोचा। अपनी मेहनत के वदोलत वह कैलिफोर्निया का गवर्नर बना और उस बंदे का नाम है Arnold Schwarzenegger, जिसने बॉडीबिल्डिंग के ऊपर भी कई किताबे लिख डाली।

 

 

Rakesh Sharma – Best Motivational Success Story in Hindi

दूसरी सक्सेस स्टोरी है राकेश शर्मा की। एक ड्रग रिएक्शन की बजह से मात्र 2 साल की उम्र में इस बंदे की आँखों की रौशनी चली गई। जब स्कूल में एडमिशन करने गए तो उन्होंने एडमिशन लेने से मना कर दिया। उसके बाद इसके पेरेंट्स ने एक स्पेशल स्कूल से इसकी पढाई करवाई।

 

लोगों ने इसके पेरेंट्स से बोला कि यह अपने लाइफ में कुछ नहीं कर पाएगा इससे उम्मीद मत रखो। लेकिन इस बच्चे के माँ-बाप को उस पर पूरा नाज था। इन्होने उसे किरोरी माल कॉलेज से ग्रेजुएशन करवाई। आगे चलकर इस बंदे ने UPSC की तैयारी की और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अँधा होने की बजह से जिस बंदे के माँ-बाप ने यह बोला था कि इससे उम्मीद मत रखो यह कुछ नहीं कर पाएगा, उसी लड़के ने अपने मेहनत के वदोलत 1st अटेम्प्ट में UPSC क्लियर कर दी और उन लोगों को गलत साबित कर दिया और बन गया IAS राकेश शर्मा।

 

 

“लोग कुछ भी बोले उनको बोलने दो 

बस तुम्हे सोते-जागते, उठते-बैठते अंदर से एक ही चीज सुनाई देनी चाहिए 

कि तुम्हे किसी भी कीमत पर अपने लक्ष तक पहुँचना हैं”

 

 Sadio Mane – Best Motivational Success Story in Hindi

तीसरी कहानी हैं Sadio Mane की, जिसकी सक्सेस स्टोरी सुनने के  बाद आप बहाने लगाना भूल जाओगे। अफ्रीका के Sedhiou, Senegal के एक छोटे से गाँव का लड़का जिसे फूटबाल खेलने का जूनून इस कदर सवार हो गया कि कचरे में से उठाए फटे जूते पहनकर वह कपडे के फुटबॉल से प्रैक्टिस करने लगा क्यूंकि न तो उसके पास जूते खरीदने के पैसे थे और न ही फुटबॉल खरीदने के। यहाँ तक की उसे कभी-कभी खाना भी नसीब नहीं होता था और ऐसे वक्त में यह लड़का मिटटी खा कर अपनी भूख मिटाता था।

 

वह फटे जूते से फुटबॉल की प्रैक्टिस करता था। कोई नहीं था उसे ट्रैन करने वाला लेकिन फिर भी उसे अपने आप पर पूरा विश्वास था। उसके अंदर जिद थी कि एक दिन पूरी दुनिया उसे उसकी नाम से जानेगी। जब यह 12 साल का था तो उसके देश के राजधानी में फुटबॉल के ट्रायल्स हुए। उस वक्त उसके पास वहाँ तक ट्रेवल करने के भी पैसे नहीं थे। लेकिन जूनून इस कदर सवार था कि 12 साल का यह लड़का 160 किलोमीटर भागते हुए वहाँ पहुँचा सिर्फ ट्रायल देने के लिए।

 

जब वह अपने फ़टे हुए पहनकर वहाँ पहुँचा तो लोगों ने उसका मजाक बनाया। लेकिन फिर उस बंदे के 5 मिनट के ट्रायल ने सबकी बोलती बंद कर दी। उसने दिखा दिया कि फटे हाल वाला यह लड़का भी रिकॉर्ड तोड़ सकता है। उस वक्त कोच ने 12 साल के Sadio Mane को बोला कि एक दिन लोग मुझे तुम्हारे नाम से जानेंगे।

 

उस दिन Sadio Mane बहुत खुश था। जब वह यह खुशखबरी सुनाने के लिए दौड़ता हुआ अपने घर गया तो देखा कि उसके पिता की हार्ट अटैक से मौत हो चुकी है। अब उसके पास प्यार करने के लिए सिर्फ एक ही चीज़ बची थी और वह थी फुटबॉल। उसने अपने आँसू पोछे और फिर से प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया।

 

उसकी प्रैक्टिस और इस गेम के लिए जूनून देखकर फ्रांस के एक बहुत बड़े क्लब ने उसे सेलेक्ट कर लिया। जिस छोटे से लड़के ने फटे जूते पहनकर फुटबॉल खेलना शुरू किया था आज वहीं लड़का दुनिया के सबसे बड़े फुटबॉल क्लब के लिए खेलता है। इस लड़के ने 2 मिनट 56 सेकंड में बैक टू बैक 3 गोल करके एक ऐसा वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया है जिसे आज तक कोई नहीं तोड़ पाया।

 

“दोस्तों ऐसा जुनून, ऐसा पागलपन अपने अंदर लाए 

एक बजह को जन्म दे और बहाने लगाना छोड़ दें 

तभी आप अपने लाइफ में कुछ अचीव कर पाएंगे”

 

अगर आपको यह लेख “3 Best Motivational Success Story in Hindi | यह 3 कहानियां आपकी ज़िंदगी बदल सकती है”  अच्छी लगी तो अपना विचार जरूर कमेंट बॉक्स में लिखे और इस पोस्ट को अपने दूसरे दोस्तों के साथ भी शेयर जरूर करें। 

 

यह भी पढ़े:-

 

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *