हमारी अधूरी कहानी | A Sad Love Story in Hindi

हमारी अधूरी कहानी | A Sad Love Story in Hindi

A Sad Love Story in Hindi

 

जब भी किसी को किसी से प्यार होता है तो मानो उसकी पूरी दुनिया ही बदल जाती है लेकिन कभी-कभी समय के साथ आपको आपके प्यार में कई तरह के बदलाव देखने को मिल जाएँगे। एक ऐसी ही कहानी आज मैं इस लेख में आपको सुनाने जा रही हूँ।

 

एक फ्लैट के पहली मंजिल पर स्वेता नाम की एक लड़की रहती थी और दूसरी मंजिल में अंकुर नाम का लड़का। स्वेता बीकॉम फाइनल ईयर में थी और अंकुर इंजीनियरिंग के फाइनल ईयर में। स्वेता और अंकुर एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे। दोनों के परिवारों के बीच भी बहुत अच्छा रिश्ता था। दोनों परिवार अक्सर एक दूसरे के घर आया जाया करते। हर सुख-दुख में दोनों के परिवार हमेशा एक दूसरे के लिए खड़े होते। यही बजह थीकि स्वेता और अंकुर के रिश्ते भी काफी अच्छे थे जो वक्त के साथ-साथ प्यार में तब्दील हो गए।

 

अंकुर अक्सर किसी भी चीज़ के बहाने स्वेता के घर आया जाया करता था तो वहीं स्वेता भी अंकुर की भावी से मिलने उनके घर चली जाती थी। दोनों के प्यार का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा। एक दिन स्वेता का बड़ा भाई अंकुर के घर से लौटते हुए सीढ़ियों से उतर रहा था तभी अचानक उसे एक पेपर निचे गिरा हुआ मिला। उसने उसे उठा लिया। लेकिन जब स्वेता के भाई ने उस पेपर को खोला तो उसमे जो लिखा था उसे पढ़कर उसके होश ही उड़ गए और वह गुस्से से लाल हो गया।

 

घर आते ही उसने पहले स्वेता और अपने माँ-पापा को बुलाया। माँ के हाथ में वह पेपर देते हुए स्वेता के भाई ने उसे एक चाटा मारा। वह पेपर पढ़ उसके माँ-पापा के भी होश उड़ गए। उसके बाद स्वेता के माँ ने भी उसे खूब चाटे मारे और बोला, “यह सब क्या है? क्या हमने इसलिए तुम्हे इतनी आज़ादी दे रखी है? पढ़ाई के बदले यह सब करती हो?

 

वह पेपर दरहसल एक लेटर था जो अंकुर ने स्वेता को दिया था और आते वक्त स्वेता से सीढ़ियों पर गिर गया। फिर क्या, दोनों परिवारों में भी दूरिया आ गई। लेकिन अंकुर और स्वेता का प्यार कहाँ कम होने वाला था। दोनों कॉलेज के बहाने अब बाहर मिलने लगे। दोनों कभी रेस्टुरेंट जाते तो कभी पार्क। दोनों का प्यार और भी ज़्यादा बढ़ने लगा। देखते ही देखते अंकुर ने अपनी इंजीनियरिंग पूरी कर ली और अब वह जॉब के लिए शहर के बाहर जाने लगा।

 

अंकुर के चले जाने के नाम से ही स्वेता बहुत अपसेट हो गई थी। लेकिन आखिरकार एक दिन अंकुर चला गया। अंकुर के जाने के बाद दोनों की बातें अब फ़ोन पर ही हुआ करती थी। वक्त निकालकर स्वेता और अंकुर दोनों एक दूसरे से घंटो बातें करते। लेकिन अब धीरे-धीरे स्वेता के पास अंकुर का फ़ोन कम आने लगा। स्वेता फ़ोन करती तो अंकुर कभी रिसीव करके यह बोल देता की मैं बिजी हूँ तो कभी फ़ोन रिसीव ही नहीं करता। ऐसे में स्वेता मानो अंकुर के लिए पागल हो रही थी।

 

अब स्वेता का न खाने का मन करता और न पढ़ने का और न और किसी काम में। फिर एक बार अंकुर अपने घर आया। स्वेता बहुत खुश थी। उसने सोचा कि अंकुर उससे जरूर मिलेगा। लेकिन अंकुर तो ऐसा वर्ताव कर रहा था मानो वह स्वेता को जानता ही न हो। यह देखकर स्वेता टूट गया। उसे समझ आ गया था कि बाहर जाने के बाद अंकुर अब अपने लाइफ में आगे बढ़ गया और वह सोचने लगा कि सायद उसे कोई और मिल गई है या फिर वह अपने घरवालों के कहने पर मुझसे रिश्ता नहीं रखना चाहता। स्वेता ने अपने दिल को यह सारी बातें बोलकर समझाने की कोशिश तो की लेकिन स्वेता अब भी अंकुर को भूल नहीं पाई।

 

स्वेता का मानो अब प्यार पर विश्वास ही उठ गया था। अब स्वेता भी बहुत अच्छी कंपनी में जॉब कर रही है। उसके पास सब कुछ है लेकिन अक्सर रात को यही सोचती है कि सब मिला बस एक तू ही नहीं मिला। अब वह अपनी जिंदगी को जी नहीं रही बस काट रही है।

 

इस कहानी को पढ़ने के बाद ऐसा नहीं है कि लोग प्यार करना ही छोड़ दे क्यूंकि प्यार में कौन सच्चा है और कौन झूठा इसका पता आसानी से नहीं चलता बल्कि जरुरत है कि अगर आप कभी ऐसी परिस्तिथि से गुजरे तो बस खुद पर भरोसा रखना और ज़िंदगी में आगे बढ़ना क्यूंकि ज़िंदगी बहुत खूबसूरत है और इसका सिर्फ एक ही रंग नहीं है इसके तो हज़ारो रंग है।

 

आपको यह कहानी हमारी अधूरी कहानी | A Sad Love Story in Hindi” कैसी लगी निचे कमेंट के माध्यम से जरूर बताए और इस कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करे। 

 

यह भी पढ़े 

मुझे माफ़ करदो | Heart Touching Sad Love Story In Hindi

मुलाक़ात | Romantic Hindi Love Story

आखरी मुलाक़ात | Sad Love Story In Hindi

एक अनोखी प्रेम कहानी | Love Story In Hindi

Sad Love Story In Hindi: एक लड़की की ब्रेकअप की कहानी

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *