Mandy The Haunted Doll | Real Story in Hindi | मैंडी डॉल की असली कहानी

Mandy The Haunted Doll | Real Story in Hindi | मैंडी डॉल की असली कहानी

आज की स्टोरी है Mandy The Haunted Doll के बारे में। इस कहानी को अंत तक जरूर पढ़े ताकि आप मैंडी डॉल की असली कहानी को अच्छे से जान सके।

 

Mandy Doll की असली कहानी 

वर्ल्ड मोस्ट हॉन्टेड एनाबेल डॉल के बारे में तो आप जानते ही हैं लेकिन इसके अलावा भी दुनिया में बहुत से हॉन्टेड और हॉरर डॉल मौजूत हैं जिसमें जर्मनी में बनाई जाने वाली डॉल मैंडी डॉल एक हॉन्टेड डॉल है। यह 1910-1920 के बीच में बनाई गई थी। यह डॉल तक़रीबन सौ साल से भी ज़ादा पुराणी है। इस डॉल के ओनर के साथ कुछ ऐसे हादसे हुए जिसके कारण इसे 1991 में ब्रिटिश के एक म्यूजियम में भेज दिया गया था।

 

इस डॉल के ओनर के मुताबिक इसे बेसमेंट में किसी बच्चे की रोने अबाज आती थी। लेकिन जब वह बेसमेंट में जाती थी तो वहाँ कोई भी बच्चा मौजूत नहीं होता था। बस बेसमेंट की एक विंडो खुली हुई होती थी। इस डॉल की ओनर यह नहीं चाहती थी कि उसकी बेटी इसके साथ खेले। यही बजह थी कि उसने इस डॉल को म्यूजियम में रखवा दिया था। सायद वह इस डॉल की असलियत से वाक़ित थी।

 

डॉल को म्यूजियम में देने के बाद बच्चे की रोने की आवाज बंद हो गई लेकिन म्यूजियम में मौजूत इस डॉल के आसपास रहने वाले लोगों को वहाँ कुछ अजीब महसूस होता था। इसके साथ-साथ स्टाफ के साथ भी हादसा होना आम सा हो गया था। चीज़ो का अपनी जगह से गायब हो जाना और किसी दूसरे जगह से मिलना इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक चीज़ो का खुद से ख़राब हो जाना या जल जाना और किसी के न होने के बाबजूद भी किसी दूसरे का वहाँ महसूस होना ऐसे घटनाएँ होती रहती थी। इसके अलावा और बहुत से हादसा शामिल थे।

 

इस डॉल ने सफेद रंग के कपड़े पहने हुए हैं जो देखने में काफी पुराने लगते हैं। इसके अलावा इसके चेहरे पर जगह-जगह कर्स लगे हुए हैं और दिखने में इसका चहरा बहुत ही डरावना है। इस डॉल की फोटो लेने के बाद इसे म्यूजियम में बंद कर दिया गया लेकिन अगले ही दिन इस म्यूजियम में मौजूत हर चीज़ टूटी हुई पाई गई थी। जब लोग इस डॉल की तस्वीर लेते हैं तो या तो वह फोटो बलौर हो जाती है या इसमें अजीब सी सफेद रौशनी दिखाई देती हैं और डॉल का चहरा भी साफ नहीं आ पाता है।

 

 

सुनने में यह आया था कि इस डॉल के साथ कुछ गलत रवैया किया गया था लेकिन यह सब डॉल  नहीं बल्कि इसमें रहने वाली एक स्पीरिट यह सब कर रही  थी। यह डॉल पुराने फार्म हाउस की बेसमेंट में मिली थी। एक आदमी इसी फार्म हाउस के पास से गुजर रहा था कि उसे एक बच्चे की रोने की आवाज आई लेकिन वह जानता था कि वहाँ कोई भी बच्चा मौजूत नहीं है।

 

उस आदमी ने उस फार्म हाउस में जाने के लिए दरवाजा खटखआया लेकिन कोई रेस्पॉन्स नहीं आया और रोने की आवाज तब भी आ रही थी। वह किसी तरह उस फार्म हाउस के अंदर गया और उसने महसूस किया कि रोने की आवाज निचे से आ रही है। जैसे ही वह बेसमेंट में गया उसने देखा कि वहाँ एक मुर्दा बच्ची मौजूत है और उसके हाथ में वहीं डॉल थी।

 

लेकिन वह मुर्दा बच्ची वहाँ पर कैसे आई? यह कोई नहीं जानता था। लेकिन यह कहा जाता है कि जब वह बच्ची मरी तो उसकी स्पिरिट यानि आत्मा उस डॉल में चली गई थी। तब से उस बच्ची की स्पिरिट उस डॉल में रहती है। आज भी Mandy The Haunted Doll ब्रिटिश के म्यूजियम में मौजूत हैं और वहाँ पर होने वाले हादसा अभी भी जारी हैं।

 

तो दोस्तों आपको स्टोरी “Mandy The Haunted Doll | Real Story in Hindi | मैंडी डॉल की असली कहानी”  कैसी लगी निचे कमेंट करके जरूर बताएँ और इसे अपने उन दोस्तों के साथ भी शेयर करें जिन्हें हॉरर स्टोरीज पढ़ना पसंद है। अगर आप इसी तरह और भी हॉरर स्टोरीज पढ़ना चाहते हैं तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।

 

यह भी पढ़े 

 

Read More Horror Stories in Hindi

पुराना स्कूल 

Bloody Mary राज की कहानी

La Llorona की खौफनाक कहानी

Annabelle Doll की डराबनि कहानी, सुनकर दंग रह जाएंगे

पिरामिड की असली कहानी

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *