भूतिया अस्पताल | Haunted Hospital Horror Story in Hindi | Bhooton Ki Kahani

भूतिया अस्पताल | Haunted Hospital Horror Story in Hindi | Bhooton Ki Kahani

भूतिया अस्पताल | Haunted Hospital Horror Story in Hindi | Bhooton Ki Kahani, यह हॉरर स्टोरी थोड़ी डरावनी है और अगर आपको डरावनी कहानियां पढ़ना पसंद है तो मुझे उम्मीद है आपको यह हॉरर स्टोरी पसंद आएगी।

 

Haunted Hospital Horror Story in Hindi

 

मैंने नर्सिंग का कोर्स किया है और जब मैं ग्रेजुएट हुई, तो मुझे एक हॉस्पिटल में जॉब मिल गई। वह एक पुरानी तीन फ्लोर की बिल्डिंग थी। जब मैंने इंटरव्यू दिया तो उन्होंने मुझे सेलेक्ट कर लिया और जितना जल्दी हो सके ज्वाइन करने के लिए कहा क्यूंकि रिसेंटली कुछ नर्सस ने वहाँ से रिजाइन किया था। इसलिए उन्हें नर्सस की जरुरत थी।

 

मुझे काम करे सिर्फ एक ही हप्ता हुआ था कि मेरे साथ कुछ अजीब सा इंसिडेंट हुआ, जिसे मैं आज भी याद करती हूँ। मेरी नाईट शिफ्ट थी और सारे पेशेंट सो चुके थे। वहाँ बस हम तीन लोग थे। मैं, एक नर्स जिसका नाम रौशनी था और एक सिक्योरिटी गार्ड। हम तीनो स्टाफ रूम में चाय पीकर बातें करने लगे ,फिर मेरे राउंड का समय हो गया। मैंने फर्स्ट फ्लोर से शुरू किया। एक-एक रूम चेक किए कि सब कुछ ठीक तो है, किसी पेशेंट को किसी चीज़ की जरुरत तो नहीं। सब कुछ सही था।

 

फिर मैं सेकंड फ्लोर पर पहुँची। वहाँ पर भी सब ठीक था। वहाँ इतनी शांति थी कि मेरे पैरों की चलने की आवाज पुरे फ्लोर में गूंज रही थी। तभी अचानक मैंने एक आवाज सुनी। वह किसी बच्चे की रोने की आवाज थी। ऐसा लग रहा था कि वह आवाज मेरे ऊपर की फ्लोर से आ रही है। मैं रुक गई और ध्यान से सुनने लगी। वह एक छोटे बच्चे की रोने की आवाज थी। मेरे रोंगटे खड़े हो गए। क्यूंकि मुझे पता था कुछ तो गलत है। इतनी रात को कोई बच्चे की आवाज इस हॉस्पिटल में होना पॉसिबल ही नहीं है। और थर्ड फ्लोर तो खाली पड़ा था।

 

फिर मैं डरते हुए थर्ड फ्लोर पर पहुँची। मैंने आसपास देखा तो सभी लाइट्स ऑफ़ थी और पुरे कॉरिडोर में बस अँधेरा था। मुझे कुछ अच्छे से दिखाई नहीं दे रहा था। मैंने उस बच्चे की रोने की आवाज को फॉलो किया और वह आवाज मुझे एक कमरे तक ले गई। जब मैंने उस कमरे का दरवाजा खोला, मैंने देखा एक बेड के ऊपर चादर ओड़े कोई बैठा हुआ था। मैंने बेड के पास आते हुए कहा ,”कौन है वहाँ?” जो भी उस चादर के निचे था वहाँ से रोने की आवाज एकदम से बंद हो गई। मैंने चादर को पकड़ा और झटके से हटाया। मेरे पैरों से मानो जमीन खिसक गई जबकि उस चादर के निचे कोई नहीं था। मेरे शरीर में मानो खून जम से गया।

भूतिया अस्पताल | Haunted Hospital Horror Story in Hindi | Bhooton Ki Kahani

डरते हुए फिर में उस बेड से पीछे हट गई कि अचानक मेरे पीछे से दरवाजा बंद होने की आवाज आई। मैं दरवाजा की ओर भागी और देखा दरवाजा पूरी तरह से बंद हो गया था और मुझे यह महसूस हुआ कि कोई नंगे पाओ कॉरिडोर में दौड़ रहा था। मैंने जल्दी से दरवाजा खोला और कॉरिडोर में भागते हुए आई पर वह कॉरिडोर पूरा खाली पड़ा था। वहाँ मेरे आलावा कोई नहीं था। तभी मुझे मेरे पीछे के रूम से हँसने की आवाज आई। डरके मारे में निचे के फ्लोर की ओर भागी। मुझे हर कमरे से बच्चों की रोने की आवाजे आने लगी। मैंनेपीछे देखा तो मेरी मानो जान सी निकल गई। पुरे कॉरिडोर में हर जगह छोटे बच्चे थे, जो मेरी तरफ आ रहे थे। कुछ बच्चे बड़े थे तो कुछ बच्चे छोटे।

 

मैं इतनी डर गई थी कि मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मैं सीढ़ियों की तरफ भागने लगी की तभी मेरा पैर सीढ़ियों फिसला और मैं कैसे भी करके सेकंड फ्लोर पर पहुँची। वहाँ मुझे हॉस्पिटल के सिक्योरिटी गॉर्ड ने देखा और मुझे पूछा, “क्या हुआ बेटा?” तभी मैं डरते हुए, काँपते हुए बोली, “वह थर्ड फ्लोर, वह कॉरिडोर, वह बच्चे…..” मैं रोने लगी और चिल्लाने लगी। तभी गार्ड ने मुझे संभाला और मुझे स्टाफ रूम ले गया। जब गार्ड मुझे स्टाफ रूम में ले आए, वहाँ रौशनी बैठी हुई थी। उन्होंने मुझे शांत किया, मुझे चेयर पर बिठाया और मुझे एक कप चाय दी। फिर उन दोनों ने मुझे उस हॉस्पिटल के बारे में बताया। तभी मुझे पता चला की उस हॉस्पिटल में थर्ड फ्लोर पर कई सालों पहले आग लग गई थी और उस आग की बजह से कई सारे बच्चों की दम घुटने से मौत हो गई।

 

उसके बाद से उन्होंने अभी थर्ड फ्लोर यूज़ नहीं किया, जबकि सबको पता था की थर्ड फ्लोर पर काफी अजीब ओ गगरीब घटनाएँ हॉस्पिटल के स्टाफ के साथ हुई है। स्टाफ और पेशेंटस ने थर्ड फ्लोर पर बच्चों की हँसने की आवाजे कई बार सुनी है। कई स्टाफ ने तो कॉरिडोर में बच्चों को भागते हुए भी देखा है। मैं वह सब सुनकर बहुत ज़ादा घबरा चुकी थी। फिर कुछ हप्ते बाद, मैंने वह हॉस्पिटल छोड़ दी। मैं वहाँ और नहीं रह सकती थी क्यूंकि बहुत डर चुकी थी मैं। कई बार, आज भी जब देर रात तक मैं उस हॉस्पिटल के बारे में सोचती हूँ, तो मुझे लगता है कि अभी भी उस अँधेरी बड़ी कॉरिडोर में वह बच्चे मेरी तरफ देखकर हँस रहे हैं। वह आवाजे आज भी मेरे कानो में गूंजती है।

 

तो दोस्तों आपको यह हॉरर स्टोरी “भूतिया अस्पताल | Haunted Hospital Horror Story in Hindi | Bhooton Ki Kahani” कैसी लगी निचे कमेंट करके जरूर बताएँ और इसे अपने उन  दोस्तों के साथ भी शेयर करें जिन्हें हॉरर स्टोरीज पढ़ना पसंद है। अगर आप इसी तरह और भी हॉरर स्टोरीज पढ़ना चाहते हैं तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।

 

यह भी पढ़े

 

Read More Stories For Kids in Hindi

शेर और बैल की कहानी
शेर को हो गया प्यार
नन्हाँ छछूँदर
दो छोटे बच्चों की कहानी
भेड़िया और बकरी के सात बच्चे

 

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *