एक हाथी और एक दर्जी | An Elephant And A Tailor Story in Hindi

एक हाथी और एक दर्जी | An Elephant And A Tailor Story in Hindi

एक हाथी और एक दर्जी

 

An Elephant And A Tailor Story in Hindi

 

आज जो मजेदार कहानी मैं आपको सुनाने जा रही हूँ उसका नाम है “एक हाथी और एक दर्जी | An Elephant And A Tailor Story in Hindi”.

 

एक छोटे से शहर में एक बड़ा सा मंदिर था। उस मंदिर में एक हाथी था। वह हाथी और उसका मालिक मंदिर के पास ही रहते थे। मालिक उसके हाथी का अच्छे से ख्याल रखता था। मालिक उस हाथी को शहर भर में घुमाता और पैसे कमाता। हाथी और मालिक हर एक दुकान में जाते। दुकानदार हाथी को पैसे देते और बदले में हाथी उन्हें आशीर्वाद देता। यह उनकी रोज की ज़िंदगी थी।

 

शहर के रास्ते में एक दर्जी था जिसकी एक दुकान थी। हमेशा की तरह एक दिन हाथी अपने मालिक के साथ वहाँ आया। दर्जी मन ही मन बोला, “कितनी पोरेशनी की बात है कि मुझे इन्हे हर रोज पैसे देने पड़ते है। आज इनके ऊपर एक तरकीब आज़माता हूँ। मैं इन्हे पैसे ही नहीं दूँगा।”

 

हाथी दर्जी के दुकान के पास पहुँचा। दर्जी अपने हाथ बंद करके दुकान से बाहर आ गया। दर्जी ने ऐसा नाटक किया मानो उसने पैसे हाथी के सूँड़ में रखे हो। पर असलमे उसने सूँड़ में सुई चुभाई जो उसके हाथ में थी। हाथी दर्द से रो पड़ा। दर्जी ने ऐसा दिखाया कि मानो वह बेकसूर हो और फिर अपने काम पर लग गया। हाथी भी अपने साथ दर्द लिए वहाँ से चला गया और उसी शाम हाथी ने यह तय कर लिया कि वह दर्जी को सबक सिखा के रहेगा।

 

अगले दिन सुबह, हाथी के मालिक ने उसे नहाले के बारे में सोचा। लेकिन हाथी बिना हिले-ढूले स्थिर खड़ा रहा। हाथी तो उस दर्जी के बारे में सोच रहा था। कुछ देर बाद मालिक और हाथी निकल पड़े और चलते-चलते अचानक हाथी ने अपनी दिशा बदल दी। हाथी ने कीचड़ देखा और उसके पास चला गया। हाथी को मालिक की एक भी बात सुनाई नहीं दे रही थी। वह बस चलता गया। उसने जितना हो सके उतना कीचड़ अपने सूँड़ में भर लिया और दर्जी की दुकान की ओर चलने लगा।

 

हाथी सीधे उस दर्जी की दुकान की तरफ बड़ा और उसका मालिक उसके पीछे-पीछे चल रहा था। दर्जी ने बस दुकान खोली ही थी और दिन भर की काम की तैयारी कर रहा था। हाथी दर्जी के पास गया और इससे पहले की दर्जी कुछ समझ पाता हाथी ने सारा कीचड़ उस पर डाल दिया। वह पूरी तरह कीचड़ से नाहा चूका था।

 

मालिक समझ गया कि जरूर दर्जी ने हाथी के साथ कुछ बदमाशी की होगी इसलिए हाथी ने उससे बदला लिया। मालिक और हाथी दोनों हँसने लगे और वहाँ से चले गए और दर्जी बेसहारा होकर वहीं खड़ा रहा।

 

आपको यह कहानी “कौआ और बूढ़ी औरत | The Crow And The Old Woman Story In Hindi” कैसी लगी निचे कमेंट जरूर करे और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करे और भी नई कहानियां पढ़ने के लिए क्यूंकि हम इस ब्लॉग पर रेगुलर नए पोस्ट पब्लिश करते हैं।

 

यह भी पढ़े 

कौआ और बूढ़ी औरत | The Crow And The Old Woman Story In Hindi

लोमड़ी और कौआ | The Fox And The Crow Story In Hindi

जादुई पतीला | Jadui Patila Hindi Kahani

सोने का फल | The Golden Fruit Story In Hindi

जादुई सोने का कंगन | Moral Story In Hindi

 

(Read More Story in Hindi)

भेड़िया और पालतू कुत्ता

शेर और बैल की कहानी

अपने नजर को बदलो

कहानी एक गाँव की

चमत्कार की कहानी

 

 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *