शिकारी और खरगोश की कहानी | Hunter and Rabbit Story in Hindi

शिकारी और खरगोश की कहानी Hunter and Rabbit Story in Hindi

 

शिकारी और खरगोश की कहानी

एक निर्दयी शिकारी था। वह शिकारी खरगोशों को पकड़ा करता था और उनका माँस बड़े मजे से खाया करता था। एक दिन, शिकारी ने फिर से एक खरगोश पकड़ा और उसका कान पकड़कर जबरदस्ती अपने घर ले चला। घर आते वक़्त रास्ते में उसे एक साधु मिला। साधु ने शिकारी से कहा, “बेटे, इस मासूम खरगोश को छोड़ दो इसके बदले तुम्हें जरूर पुण्य मिलेगा।”

 

निर्दयी शिकारी ने साधु का कहा इन्कार कर दिया। उसने वहीं साधु के सामने ही निर्दयतापूर्वक खरगोश की गर्दन काटने का निश्चय किया।

 

शिकारी ने अपने थैले से बड़ा धारदार चाकू निकाला। वह चाकू से खरगोश को काटने ही वाला था कि चाकू फिसलकर उसी के पैर पर गिर पड़ा। शिकारी का पैर बहुत बुरी तरह से कट गया और खून बहने लगा। शिकारी दर्द से चिल्लाने लगा और उसके हाथ से खरगोश छूट गया।

 

शिकारी को अपने पाप का दंड वहीं मिल गया। उसका पैर बुरी तरह से कट गया था, इसलिए वह ठीक से चलने लायक भी नहीं रहा और न ही दोबारा कोई शिकार कर पाया।

 

उम्मीद करता हूँ की आपको यह कहानी जरूर पसंद आई होगी। अगर पसंद आए तो इस कहानी को अपने सभी दोस्तों के साथ भी शेयर करें और नई नई कहानियां पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।

 

यह भी पढ़े:-

 

प्रेरणादायक कहानियां पढ़े (Motivational Stories in Hindi) 

गुरु और शिष्य
एक हिरण की प्रेरणादायक कहानी
सबसे बड़ा मुर्ख कौन?
मौत एक सच है, एक प्रेरक कहानी
दो मछुआरे की प्रेरणादायक कहानी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.