एक ईमानदार किसान | Hindi Story of An Honest Farmer

एक ईमानदार किसान | Hindi Story of An Honest Farmer

एक ईमानदार किसान  Hindi Story of An Honest Farmer

एक ईमानदार किसान

 

एक गांव में एक गरीब किसान रहता था. वह बहुत ही ईमानदार और मेहनती आदमी था. वह अपने छोटे से खेत में काम करता और और बहुत ही खुश रहता था. पुरे गांव में किसान की ईमानदारी की बहुत ही चर्चे थे.

 

उसका एक दोस्त था, जो उस गांव के राजा के यहाँ सिपाही का काम करता था. वह किसान से रोज उसके घर मिलने जाता था. एक बार राजा ने अपने दरबार में यह एलान किया की उसके बगीचे में काम करने वाला एक अच्छा सा कारीगर चाहिए, जो उसके बगीचे के पेड़, पौधों और फूलो का ध्यान रख सके.

 

राजा का यह एलान सुनकर किसान के दोस्त सिपाही ने सोचा की यही मौका है किसान से मित्रता निभाने की. मैं उसे यहाँ बगीचे में काम पर लगवा दूंगा और उसका और मेरा साथ भी रहेगा। इससे किसान का भला भी हो जाएगा।

 

यह सोचकर सिपाही ने राजा से कहा, “महाराज, मैं आपके लिए एक ऐसे आदमी को लेकर आऊंगा जो यह काम अच्छे से कर लेगा. ”

 

 

तभी राजा ने उस सिपाही को आदेश दिया, “ठीक है, जाओ और उसे कल से ही बगीचे में काम करने के लिए कह दो.”

 

उसी वक़्त वह सिपाही अपने दोस्त किसान के पास पहुंच गया और उसने किसान को बगीचे की काम की सारी बातें बता दी. किसान ने भी काम करने के लिए ख़ुशी ख़ुशी हाँ कर दिया और अगले दिन ही अपने दोस्त के साथ काम पर पहुंच गया. सिपाही उसे राजा के पास लेकर गया. राजा ने उस किसान को बगीचे की पूरी देखभाल का काम सौप दिया और कहा, “तुम अगर पूरी ईमानदारी के साथ काम करोगे तो तुम्हे 50 सोने के मुद्राएँ हर महीने दूंगा .”

 

किसान ख़ुशी खुसी बगीचे में काम करने के लिए हाँ बोल देता है और वह उसी वक़्त से बगीचे में काम करने लगता है. किसान बगीचे में बहुत दिल लगाकर काम करता था।

 

कुछ दिन बीत गए.किसान ने बगीचे को बहुत सुन्दर और हरा भरा बना दिया. राजा को उसका काम बहुत पसंद आया. एक दिन किसान बगीचे में कुछ खुदाई कर रहा था. तो उसने जमीन के निचे कुछ महसूस किया . किसान ने और खुदाई की तो उसने देखा वहां निचे एक बड़ी सी संदूक थी . किसान ने वह संदूक बाहर निकाली और खोलकर देखी . वह संदूक सोने और चांदी से भरी हुई थी . यह देखकर किसान बहुत खुश हुआ और अपनी ईमानदारी दिखाते हुए वह राजा के पास पहुंचा . किसान ने राजा को सारी बातें बताई . राजा किसान की ईमानदारी देखकर बहुत खुश हुआ .

 

 

राजा किसान के साथ उस जगह गया जहाँ जहाँ किसान ने खजाना निकाला था  . राजा ने देखा तो कहा ,’यह खजाना तो हमारे पुरखों का है, हम कई बर्षों से इसे ही खोज रहे है .”

 

यह खजाना देखकर राजा बहुत ही खुश हो जाता है. अगले दिन राजा ने किसान से पूछा, “बोलो तुम्हे क्या इनाम चाहिए .”

 

किसान बोला, ‘मालिक मुझे कुछ नहीं चाहिए .मेरे पास जो भी है मैं उसी में खुश हूँ . ”

 

राजा उसकी इतनी अच्छी बात सुनकर और भी ज्यादा खुश हो गया और उसने किसान को अपना मंत्री बनाने का फैसला किया .”

 

किसान ने राजा की बात मान ली और राजा का मंत्री बन गया . तो दोस्तों सबसे बड़ी ईमानदारी ही है जिससे एक गरीब इंसान किसान से राजा का मंत्री बन गया।

 

 

दोस्तों आपको यह कहानी “एक ईमानदार किसान | Hindi Story of An Honest Farmer” कैसी लगी निचे कमेंट करके जरूर बताएं और असेही और भी अनेक कहानियां पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।

 

यह भी पढ़े: 

Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *