पंचतंत्र की कहानी | झूठा दोस्त | False Friend Panchatantra Story in Hindi

पंचतंत्र की कहानी | झूठा दोस्त | False Friend Panchatantra Story in Hindi

False Friend Panchatantra Story in Hindi

 

झूठा दोस्त

एक जंगल में एक हिरन और एक कौआ रहता था। वह दोनों पक्के दोस्त थे। जहाँ भी जाते थे, दोनों हमेशा साथ जाते थे। एक दिन कौए ने हिरन को एक सियार के साथ देख लिया। सियार बहुत चालाक जानवर माना जाता है। कौए ने अपने दोस्त हिरन को यह समझाया कि वह सियार पर भरोसा करके उसके साथ न जाए। लेकिन हिरन ने अपने दोस्त कौए की सलाह पर बिलकुल भी ध्यान नहीं दिया।

 

 

एक दिन हिरन सियार के साथ एक खेत में चला गया। उस खेत के मालिक ने खेत के चारो और जाल बिछाए रखे थे। खेत में पहुंचते ही हिरन वहां लगे जाल में फँस गया। सियार ने उससे कहा, “मैं जाकर किसान को बुलाकर लाता हूँ। वह आएगा और तुम्हे मार डालेगा और मुझे भी तुम्हारे गोश्त का कुछ हिस्सा देगा।”

 

 

हिरन जोर-जोर से चिल्लाने लगा। कौए ने अपने दोस्त हिरन की चिल्लाने की आवाज सुनी और तुरंत उसकी सहायता करने के लिए खेत में पहुंच गया। कौए ने हिरन से कहा, “तुम ऐसे लेट जाओ, जैसे की तुम सच मुच मर गए हो।” हिरन ने बिलकुल ऐसा ही किया। उसने मर जाने का नाटक किया।

 

 

थोड़ी ही देर में सियार की आवाज सुनकर किसान खेत में आ पहुंचा। उसने देखा की जाल में एक हिरन फंस गया है लेकिन वह तो पहले से ही मरा पड़ा है। हिरन को मरा हुआ समझकर किसान ने जाल को खोल दिया। जाल खुलते ही हिरन को मौका मिल गया और वह तुरंत उछलकर वहां से भाग गया। गुस्से में किसान ने सियार की बहुत पिटाई की और उसे वहां से भगा दिया।

 

 

इस कहानी से सीख, Moral of The Story:

किसी अनजान व्यक्ति पर झट से विश्वास नहीं करना चाहिए।

 

आपको यह कहानी “पंचतंत्र की कहानी | झूठा दोस्त | False Friend Panchatantra Story in Hindi “ अगर पसंद आए तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ भी शेयर करें और असेही मजेदार कहानियां पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें। धन्यवाद।

 

यह भी पढ़े:-

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *