माँ बतख की कहानी | Mother Duck Story in Hindi

माँ बतख की कहानी | Mother Duck Story in Hindi

Mother Duck Story in Hindi

 

 माँ बतख की कहानी

एक माँ बतख और उसके छोटे बतख एक दिन झील के रास्ते जा रहे थे। माँ बतख अपने बच्चों के साथ ख़ुशी ख़ुशी जा रहे थे। अचानक माँ बतख ने एक लोमड़ी को दुरी पर देखा। माँ बतख डर गई की लोमड़ी उसके बच्चों को कही नुकशान न पोहुंचाये।

 

माँ बतख अपने बच्चो को कहने लगी, “बच्चो झील की तरफ जल्दी चलो, एक लोमड़ी हमारे तरफ आ रही है।”

 

बच्चे झील की तरफ जल्दी चलने लगे।

 

 

माँ बतख ने अपने बच्चों को बचाने के लिए एक उपाय सोचा। लोमड़ी उसके बच्चों को न नुकशान पहुंचा सके इसलिए बतख माँ ने अपना एक पंख जमीन पर खींचते हुए चलना शुरू कर दिया।

 

जब लोमड़ी ने माँ बतख को देखा तो वह खुश हो गया और वह कहने लगा, “ऐसा लगता है की माँ बतख को चोट लगी है और वह उड़ नहीं सकती। अब मैं उसे आसानी से पकड़ सकता हूँ और उसे खा सकता हूँ। लोमड़ी माँ बतख के पास आने लगी। और झील की तरफ जाते बच्चे बतखों से उसका नजर हट गया।

 

लोमड़ी माँ बतख के पीछे भागने लगी। अब लोमड़ी उसके बच्चे को नुकशान नहीं पहुंचा सकेगा।

 

 

माँ बतख ने देखा की उसके बच्चे झील के पानी में उतर गए है। माँ बतख को यह देखकर राहत मिली और एक गहरी साँस ली। जब लोमड़ी माँ बतख के पास पहुंची तो माँ बतख ने जल्दी से अपने पंख फैलाये और हवा में उड़ गई।

 

माँ बतख सीधे झील के पानी में उतरा अपने बच्चों के पास। इधर लोमड़ी के हाथ से माँ बतख छूट गई। माँ बतख ने चालाकी से लोमड़ी को धोखा दिया। अब लोमड़ी उन तक नहीं पहुंच सकते क्युकी माँ बतख अपने बच्चों के साथ झील के बीचो-बीच थे।

 

 

दोस्तों आपको यह कहानी ” माँ बतख की कहानी | Mother Duck Story in Hindi “ कैसी लगी नीचे कमेंट में जरूर बताये और असेही मजेदार कहानियाँ पढने के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करे।

 

यह भी पढ़े:-

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *