सोने की ईंट | Motivational Story in Hindi

सोने की ईंट | Golden Brick Motivational Story in Hindi

Golden Brick Motivational Story in Hindi

 

सोने की ईंट

एक बार, एक संत ने अपने दोनों भक्तों को बुलाया और कहा, “आपको यहाँ से पचास कोष दूर जाना है।”

 

एक भक्त को एक बोरी खाने का सामान से भरके दिया और कहा, “जो लायक मिले उसे देते जाना यानि रास्ते में जो भी मिले, अगर तुमको लगता है की वह भूखा है या उसे खाने की जरुरत है, उसे इस बोरी में से खाना निकालकर देते रहना।”

 

दूसरे भक्त को एक खाली बोरा दिया और उस भक्त को कहा, “रास्ते में उसे जो भी अच्छा चीज मिले, उसे उस बोरी में भर लेना और मेरे पास ले आना।”

 

दोनों निकल पड़े। जिसके कंधे पर सामान था, यानि जिसके बोरी में खाने का सामान था, वह काफी धीरे धीरे चल पा रहा था। क्यूंकि उसकी बोरी काफी भारी थी। और दूसरा जो भक्त था, जिसकी बोरी खाली थी, वह बहुत ही आराम से चल रहा था और मजे में चल रहा था।

 

थोड़ी दूर जाने के बाद, खाली बोरी वाले भक्त को एक सोने की ईंट मिली। और ईंट सोने की होने की बजह से भक्त को लगा की यह तो बहुत ही महत्वपूर्ण चीज है और अच्छा सामान है। उसने उसे बोरी में डाल दिया। थोड़ी दूर और चला तो फिर उसे एक और सोने की ईंट मिली। उसने उसे भी उठा लिया और अपने बोरी में डाल लिया।

 

वह जैसे जैसे आगे चलता गया, उसे सोने का ईंट मिलता गया। और वह बोरी में भरता हुआ चला गया। और एक समय ऐसा आया की जब बोरी का वजन इतना ज्यादा बढ़ गया तो वह उसे संभाल भी नहीं पा रहा था। उसका चलना मुश्किल होता जा रहा था। और साँस लेने में भी तकलीफ हो रही थी। और दूसरा भक्त जैसे जैसे आगे चलता गया, रास्ते में जो भी मिलता उसे बोरी में से खाने का सामान देता गया। धीरे धीरे बोरी का वजन कम होता गया और उसका चलना भी आसान होता गया।

 

जो भक्त अपने बोरी में से निकालकर खाने का सामान बाटता गया, उसका मंजिल तक पहुंचना बहुत आसान हो गया। और दूसरा भक्त जो खाली बोरी के साथ चला था, सोने की ईंट मिलती गई जिसे बोरी में भरता गया, जिसके कारन उसका चलना मुश्किल हुआ। धीरे धीरे बोरी का वजन इतना ज्यादा हुआ की उसे कंधे पर रखकर चलते चलते उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

 

दोस्तों यह कहानी उन लोगों को एक सीख देती है जो हमेशा पैसे के पीछे पड़े रहते है। हमारे जिंदगी का मकसत सिर्फ पैसा कमाना ही नहीं है। लेकिन आज कल अधिकतर लोग पैसे कमाने के चक्कर में गलत रास्ता पकड़ते है। और कई लोग तो काम करने के चक्कर में उनका स्वास्थ इतना ज्यादा ख़राब हो जाता की वह ज्यादा उम्र तक बच नहीं पाते।

 

तो दोस्तों आपको यह कहानी  सोने की ईंट | Motivational Story in Hindi कैसी लगी, निचे कमेंट करके जरूर बताए। और असेही और भी Motivational Story पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करे।

 

यह भी पढ़े:-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *