सात मछलियां / Best Short Hindi Stories For Kids 

5 Best Short Hindi Stories For Kids

Best Short Hindi Stories for Kids: दोस्तों आज में आपसे शेयर करनी वाली हूँ 5 मजेदार कहानिया जो की खासकर बच्चो के लिए है हिंदी में। तो दोस्तों चलिए कहानिया पढ़ना शुरू करते है।

 

5 Best Short Hindi Stories For Kids

 

1. घमंडी घोड़ा और घोंघा / Best Short Hindi Stories For Kids 

घमंडी घोड़ा और घोंघा / Best Short Hindi Stories For Kids 
Best Short Hindi Stories For Kids

एक बार, एक घमंडी घोड़ा था। उसने एक घोंघे को देखा धीरे धीरे चलते हुए। घोड़े ने उसको चिढ़ाया, “क्या रे घोंघे, दौड़ लगाएगा?”

 

घोंघे को घोड़े पर गुस्सा आया। उसने कहा, “ठीक है, रबिवार को दौड़ लगाते है।”

 

घोंघा घर गया और कई घोंघे को एक साथ इखट्टा किया। और सब ने मिलकर घोड़े को सबक सिखाने का एक षड़यंत्र रचाया।

 

उन लोगो ने सारे के सारे दौड़ के शुरू से आखिर तक एक एक जगह चुप गए।

 

दौड़ शुरू हुई। घोड़ा आगे बढ़ा। उसने देखा घोंघा उसके आगे है। फिर और तेज आगे बढ़ा। फिर देखता है घोंघा उसके आगे।

 

यह देखकर घोड़ा परेशान हो गया और बोलने लगा, “अच्छा मैं हार गया, अब बस करो। और घोंघा दौड़ जित गया।

 

 

2. सात मछलियां / Best Short Hindi Stories For Kids 

सात मछलियां / Best Short Hindi Stories For Kids 
Best Short Hindi Stories For Kids

एक समय की बात है, एक राजा था। उसके साथ युवराज थे। सारे युवराज मछली के शिकार पर गए। सबने एक एक मछली पकड़ी और सूखने को रख दी।

 

एक मछली नहीं सुखी। युवराज ने पूछा, “ए मछली, तू क्यों नहीं सुखी?” मछली बोली, “सूखे घास ने सूरज के किरणों को जो रोक लिया।” युवराज ने सुखी घास से पूछा, “ए सुखी घास, तूने सूरज के किरणों को क्यों रोका?” फिर सुखी घास ने कहा, “गाय ने मुझे नहीं खाया?” अब युवराज गाय के पास गया और उससे पूछने लगा, “ए प्यारी गाय, तूने घास क्यों नहीं खाई?” गाय बोली, “चरबाहे ने मुझे मना किया?” युवराज चरबाहे के पास गया और बोला, “ए चरबाहे, तूने क्यों मना किया?” चरबाहे बोला, “मेरी दादी मा ने मुझे खाना नहीं दिया।”

 

युवराज ने पूछा, “ए दादी मा तूने खाना क्यों नहीं दिया?” दादी मा बोली, “मेरा नन्हा बच्चा रो रहा था।” युवराज नन्हे बच्चे से से पूछा, “ए नन्हे बच्चे, तू क्यों रोया?” नन्हा बच्चा बोला, “चींटी ने मुझे काटा।” युवराज ने चींटी से पूछा, “ए चींटी, तूने क्यों नन्हे बच्चे को काटा?” चींटी बोली, “युवराज, अगर तू मेरे सुनहरे घोसले पर ऊँगली रक्खेगा , तो मैं कैसे काटूंगी।”

 

 

3. शेर की खाल में गधा / Best Short Hindi Stories For Kids 

शेर की खाल में गधा / Best Short Hindi Stories For Kids 
Best Short Hindi Stories For Kids

बड़े दिनों पहले की बात है, एक गधा था। गधा रास्ते में चल ही रहा था की उसे एक शेर की खाल मिली। उसने अपने आपको उस शेर की खाल से खुद को ढक लिया। शेर की खाल पहनके गधा पास के एक गांव में आ गया। गांव के लोग गधे को शेर समझकर उससे डरने लगे। इस तरह गधा गांव के लोगों को परेशान करता रहा।

 

गांव के लोगों के साथ साथ जंगल के बाकि जानबरों को भी लगा की वह एक असली शेर है। सभी जानबर उसे देखकर अपनी जान बचाकर वहां से भागने लगे।

 

गधा शेर की खाल पहनकर सारे जंगल में घूमता रहा। गधा बहुत ही मजे से जंगल की तरफ जा रहा था की तभी अचानक से गधे को बहुत जोर से छींक आई। और शेर की खाल उसके बदन से उड़ गई।

 

गधे की पोल सबके सामने खुल गई। गांव के सारे लोग बोलने लगे, “अरे हम तो इसे शेर समझते थे, यह तो गधा निकला।” उसके बाद गधे को गांव से बाहर निकाल दिया गया।

 

 

4. इनाम कौन जीतेगा / Best Short Hindi Stories For Kids 

इनाम कौन जीतेगा / Best Short Hindi Stories For Kids
Best Short Hindi Stories For Kids

एक दिन, जंगल के शेर ने गांव में हो रहे प्रतियोगिता को झाड़ियों से पीछे से देखा। वह देख रहा था की किस तरह बच्चे दौड़ लगा रहे है। उसने भी सोच लिए की वह भी जंगल में एक प्रतियोगिता रक्खेगा।

 

दूसरे दिन, शेर ने जंगल में एक प्रतियोगिता रखी। प्रतियोगिता में जितने वाले को शेर राज से बहुत बड़ा इनाम मिलने वाला था। राजा शेर एक महीने के लिए राजा का पद देकर खुद दूसरे जंगल में घूमने जाना चाहता था।

 

शेर ने सभी जानबर से कहा, “मैं यह एलान करता हूँ की जो भी इस प्रतियोगिता को जीतेगा, मैं उसे एक महीने के लिए राजा बनाऊंगा।”

 

भालू ने कहा, “यह तो अच्छी बात है लेकिन प्रतियोगिता क्या है? और हमें क्या करना होगा?”

 

शेर ने कहा, “आप सबको पानी में डुबकी लगानी होगी। जो सबसे ज्यादा देर तक पानी में रहेगा, वही जीतेगा।”

 

सबसे पहले बाघ आया। जैसे ही बाघ पानी में गया, उसकी साँस रुक गई। वह तुरंत बाहर आ गया।

 

फिर भालू आया। जब भालू ने पानी में डुबकी लगाई, तो एक मिनट भी खुद को पानी में नहीं रख पाया और बाहर आ गया।

 

सब जानबर उस पर हंसने लगे। शेर ने कहा, “क्या किसी में भी ज्यादा देर तक पानी में रहने की हिमायत नहीं?  क्या इस प्रतियोगिता में कोई भी नहीं जीतेगा।”

 

तभी लोमड़ी बोल उठी, “मैं यह काम कर सकती हूँ। और आप देखना की मैं पानी से बाहर नहीं आउंगी।”

 

शेर ने कहा, “हाँ हाँ करके दिखाओ।”

 

लोमड़ी पानी में डुबकी लगाती है। और तुरंत बाहर आ जाती है।

 

लोमड़ी ने कहा, “देखो, मैं अभी पानी में ही हूँ। मैं अभी भी बाहर नहीं आई हूँ।”

 

लोमड़ी ने ऐसा कई बार किया। वह डुबकी लगाती और बाहर आकर कहत, की देखो मैं अभी भी पानी में हूँ।”

 

सब हैरान थे की लोमड़ी इतनी देर तक पानी में कैसे रह पाई। इस तरह लोमड़ी यह प्रतियोगिता जित जाती है। और शेर उसे एक महीने के लिए जंगल के राजा के पद पर बैठा देता है। इस तरह अपनी चालाकी की बजह से लोमड़ी यह प्रतियोगिता जित गई।

 

 

5. छोटा चूजा / Best Short Hindi Stories For Kids 

छोटा चूजा / Best Short Hindi Stories For Kids 
Best Short Hindi Stories For Kids

एक दिन, मुर्गी अपने तीन छोटे छोटे चूजे लेकर दाना चुभ रही थी। तभी उसने देखा एक चूजा बड़े से गड्ढे में जा गिरा।  मुर्गी परेशान हो गया। वह यह सोचने लगा की कैसे वह अपने बच्चे को बाहर निकलेगी।

 

मुर्गी जोर जोर से चिल्लाने लगी। तभी उसका मालिक वहां आ गया। मालिक आकर बोला, “अरे क्यों चिल्ला रही हो?  क्या बात है?”

 

फिर उसने देखा की छोटा सा चूजा गड्ढे में गिरा पड़ा है। उसने बड़े प्यार से उसे गड्ढे से बाहर निकाला। और उस गड्ढे  को हमेशा के लिए बंध कर दिया।

 

मुर्गी अपने मालिक को बहुत पसंद करती थी। क्यूंकि वह हमेशा से उसका अच्छे से ख़याल रखता था। कभी कोई कमी  नहीं देता था।

 

एक दिन, मुर्गी के मालिक ने मुर्गी से कहा, “मुझे पैसो की बहुत जरुरत है। क्या मैं तुम्हारे चूजे बेच सकता हूँ? तुम्हे  बुरा तो नहीं लगेगा न। मुझे पैसो की बहुत ज्यादा जरुरत है मुर्गी।”

 

मुर्गी ने कहा, “हाँ बेच दीजे मालिक।”

 

मालिक ने चूजे बेच दिए। चूजे बेचकर उसे बहुत अच्छे दाम मिले। मालिक सोचने लगा की चूजे बेचकर उसे बहुत दाम  मिले इसलिए अगली बार भी वह ऐसा ही करेगा।

 

अगली बार जब मुर्गी के बच्चे हुए तब फिर से मालिक ने कहा, “मुझे पैसों की बहुत जरूरत है। क्या मैं तुम्हारे चूजे बेच दू?”

 

मुर्गी समझ चुकी थी की अब उसका मालिक लालची होता जा रहा है। उसने मालिक से कहा, “आप इतनी जल्दी क्यों बेच रहे है, कुछ दिन में मेरे बच्चे बड़े हो जाएंगे। और फिर उनके भी बच्चे होंगे। इस तरह आपका खुद का अंडो का व्यापर हो सकता है। आप जल्दबाजी में थोड़े लालच में पड़कर बहुत गलती कर रहे हो मालिक।”

 

मालिक को उसकी यह बात अच्छे से समझ आ चुकी थी।

 

मालिक ने कहा, “मुझे माफ़ कर दो। तुम ठीक कहते हो। कुछ पैसों के लिए मैं स्वार्थी हो गया था। आज के बाद तुम्हारे चूजे नहीं बेचूंगा।”

 

इस तरह मुर्गी ने अपने बच्चों की जान बचा ली।

 

दोस्तों आपको यह मजेदार 5 हिंदी कहानियां “5 Best Short Hindi Stories For Kids” कैसी लगी, निचे कमेंट करके जरूर बताइए और असेही और भी मजेदार हिंदी कहानियां (Hindi Kahaniya) पढ़ने के लिए और बच्चों को सुनाने के लिए, इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करे।

 

यह भी पढ़े:-

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *