टीचर और स्टूडेंट की एक प्रेरणादायक कहानी | Teacher and Student Motivational Story in Hindi

टीचर और स्टूडेंट की एक प्रेरणादायक कहानी (Teacher and Student Motivational Story in Hindi)

 

Teacher and Student Motivational Story in Hindi

 
यह कहानी शुरू होती है एक स्कूल से। बाहर बारिश हो रही थी और अंदर क्लास चल रही थी। तभी टीचर ने क्लास के सभी बच्चो से एक सवाल पूछा, “अगर तुम सबको 100- 100 रूपए का नोट दिया जाए, तो तुम सब क्या खरीदोगे?”
किसी ने कहा मैं वीडियो गेम खरीदूंगा, किसी ने कहा मैं क्रिकेट का बैट खरीदूंगा, किसी ने कहा मैं अपने लिए प्यारी सी गुड़िया खरीदूंगा, तो किसी ने कहा मैं बहुत से चॉकलेट्स खरीदूंगा।
एक बच्चा कुछ सोचने में डूबा हुआ था। तभी टीचर ने उस बच्चे से पूछा, “तुम क्या सोच रहे हो? तुम क्या खरीदोगे?”

 

बच्चा बोला, “टीचर जी मेरी माँ को थोड़ा कम दिखाई देता है, तो मैं अपनी माँ के लिए एक चश्मा खरीदूंगा।”
टीचर ने कहा, “तुम्हारे माँ के  लिए चश्मा तो तुम्हारे पापा भी खरीद सकते है। तुम्हे अपने लिए कुछ नहीं खरीदना?”
 बच्चे ने जो जवाब दिया उससे टीचर का भी गला भर आया। बच्चे ने कहा, “सर मेरे पापा अब इस दुनिआ में नहीं रहे। मेरी माँ लोगो के कपड़े सिलकर मुझे पढ़ाती है। और उन्हें कम दिखाई देने की बजह से वह कपड़े सील नहीं पाती है। इसलिए सर मैं मेरी माँ को एक चश्मा खरीदकर देना चाहता हूँ। ताकि मैं अच्छे से पढ़  सकूँ, बड़ा आदमी बन सकूँ और माँ को सारी सुख-सुबिधा दे सकूँ।

 

 बच्चे की बात सुनकर टीचर बोला, “बेटा, तेरी सोच ही तेरी कमाई है। यह 100 रूपए रखो और तुम्हारे माँ के लिए एक चश्मा खरीदो। और यह 100 रूपए और उधार दे रहा हूँ। जब कभी कमाओ तो मुझे लौटा देना। और मेरी इच्छा है की,  तू इतना बड़ा आदमी बने की तेरे सिर पर हाथ रखते वक़्त मैं धन्य हो जाऊं।”
बिश बर्ष के बाद, उसी स्कूल के बाहर बहुत बारिश हो रही थी। और अंदर क्लास चल रही थी। अचानक स्कूल के बाहर जिला कलैक्टर की गाड़ी आकर रूकती है। स्कूल स्टाफ चौकन्ना सा रह जाता है। स्कूल में सन्नाटा सा छा जाता है।

 

कुछ समय बाद, वह जिला कलैक्टर एक बृद्ध टीचर के पैरों में गिर पड़ते है। और कहता है, “सर, मैं उधार के 100 रूपए लौटाने आया हूँ।”  पूरा स्कूल स्टाफ दंग रह जाता है। फिर बृद्ध टीचर झुके हुए नौजवान जिला कलैक्टर को उठाकर गले मिलते है। और रो पड़ते है।
तो दोस्तों आपको यह प्रेरणादायक कहानी (Motivational Story in Hindi) टीचर और स्टूडेंट की एक प्रेरणादायक कहानी कैसी लगी, कमेंट करके अपना बिचार जरूर हमे बताइए। अगर आप और भी Motivational Story in Hindi पड़ना चाहते है, तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करिए।

यह भी पढ़े:-

चार घड़े की कहानी 
महाकवि कालिदास की प्रेरणादायक कहानी 
परिवार: एक प्रेरक कहानी 
एक भिखारी की प्रेरणादायक कहानी
एक मेहनती नौजवान की कहानी 
बुरे कर्मो का फल हमेशा बुरा ही होता है

 

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.