राजकुमार और साँप | The Prince and The Snake Story in Hindi

 The Prince and The Snake Story in Hindi

राजकुमार और साँप 

विजयगढ़ राज्य में एक बुद्धिमान और दयालु राजा रहता था। वहां के लोग बहुत खुश थे। लेकिन राजा खुद दुखी और चिंतित था। क्युकी एक शैतानी साँप ने राजा के बेटे के शरीर में प्रबेश किया था। न ही कोई दवा और न ही कोई जादू उनके बेटे को ठीक करने के काम आई।
जब राजकुमार बड़ा हुआ, तो उसने सोचा, “मेरे कारन मेरे पिता इतना चिंतित रहते हैं। ” इसलिए उसने महल छोड़ने का फैसला किया। राजकुमार महल छोड़ कर चले आए एक दूसरे राज्य में। सामान्य भोजन के लिए वे एक मंदिर में आए और वहां रहना शुरू कर दिया।

 

उस राज्य का राजा बहुत निष्ठुर था। लेकिन उनकी एक दयालु और सुन्दर बेटी थी। राजा अपनी बेटी से दुखी था। वे लड़की हमेशा अपनी पिता की मेहनत की खिल्ली उड़ाया करती थी। राजा ने सोचा, “यह लड़की हमेशा मेरी मेहनत के कम होने की बात करती हैं। मुझे इसकी शादी एक भिखारी से करवा देनी चाहिए। तब इसे पता चलेगा की कड़ी मेहनत क्या होती हैं। “
जब भिखारी राजकुमार उस निष्ठुर राजा के दरवार में भोजन के लिए भीख मांगने के लिए तो उसने अपनी बेटी के शादी के लिए उसे मजबूर किया। राजा ने अपनी बेटी की शादी उस भिखारी राजकुमार के साथ करवा दी। उन दोनों की बिबाह  जीबन की सुरुवात के लिए वे मंदिर की और जा रहे थे। मंदिर में आने के बाद राजकुमारी खाने के तलाश में इधर उधर चली गई जबकि वे भिखारी सोने चला गया।

 

जब राजकुमारी वापस आयी तब उसने अपने पति के मुँह पर एक साँप को देखकर चौंक गई। पास के एक पर्बत पर एक ओर साँप बैठा था। वे डप सांप आपस में बात कर रहे थे। सांप ने टीले पर बैठे हुए कहा, “तुम राजकुमार के शरीर को छोड़ क्यों नहीं देते? राजकुमार बहुत दयालु हैं। ” राजकुमार के मुँह पर बैठे साँप ने उत्तर दिया, “तुम्हे यह नहीं बताने चाहिए की मुझे क्या करना हैं और क्या नहीं। “
राजकुमारी ने साहसी से दोनों साँप को मार डाला। जब उसका पति जागा तो उसने दो सांपो के बारेमे उसे बताया। राजकुमार खुश था। फिर राजकुमार ने बताया की वे असल में कौन हैं? राजकुमार और राजकुमारी विजयगढ़ के महल में जाने के लिए रवाना हो गए। राजा अपने बेटे को देखकर बहुत खुश हुआ। जब राजा को पता चला की शैतानी साँप मारा गया हैं, तो उसकी ख़ुशी की कोई सीमा नहीं रही। और फिर राजकुमार और राजकुमारी ख़ुशी से अपने राज्य में रहने लगे।
  • हरा घोड़ा | Green Horse| Moral Story In Hindi

 

तो दोस्तों  आप सबको यह कहानी “Hindi Short Stories | The Prince and The Snake Story” कैसी लगी कमेंट के जरिये जरूर बताये। और असेही मजेदार “Short Story” और “Moral Story” पड़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब कर दीजे जल्दी से।

 

  • दो कुत्तों की तीर्थ यात्रा | Hindi Kahani
  • तीन भाई | Hindi Kahani
  • चालाक मिस्त्री की कहानी | Chalak Mistri Ki Kahani
  • डाकू अंगुलिमाल और महात्मा बुद्ध की कहानी |
  • घमंडी भक्त की कहानी (Ghamandi Bhakt Ki Kahani)
  • बच्चो के लिए 5 मजेदार हिंदी कहानियां (Hindi Kahaniya)
Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *