The Foolish Fish A Short Hindi Story

मुर्ख मछली | The Foolish Fish Story in Hindi

The Foolish Fish Story in Hindi

मुर्ख मछली 

एक बिशाल तालाब में बहुत सारी मछलिया रहती थी। वे घमंडी थे और कभी किसी की नहीं सुनते थे। उस तालाब में, एक दयालु मगरमच्छ भी रहता था।
एक दिन मगरमच्छ ने मछली को सलाह दी, “इतना अहंकार और घमंड ठीक नहीं है। यह आपका पतन हो सकता हैं। मगरमच्छ उसे बारबार कहता रहा लेकिन मछली ने उसकी कभी नहीं सुनी।”
एक दोपहर, तालाब के पास एक पत्थर के पास मगरमच्छ आराम कर रहा था, तभी वहां दो मछुआरे पानी पिने के लिए रुके।
मछुआरे ने देखा तालाब में बहुत सारी मछलिया हैं। उनमे से एक मछुआरे ने कहा, “देखो इस तालाब में कितना मछली हैं। हम यहां कल जाल लेकर मछली पकड़ने के लिए आएंगे। दूसरे मछुआरे ने कहा, “हमे तो आश्चर्य हो रहा हैं की हमने इस जगह को पहले कभी नहीं देखा।”

 

मगरमच्छ ने उन दोनों की बात सुन ली। जब वे दो मछुआरे चले गए तो मगरमच्छ धीरे धीरे तालाब में फिसल गया और सीधे मछली के पास गया। मगरमच्छ ने उन मछलियों को चेताबनी दी, “तुम सारी मछलियां सुबह होने से पहले इस तालाब को छोड़ कर चले जाओ। सुबह सुबह वे दो मछुआरे अपने जाल के साथ इस तालाब में आने वाले हैं।”

लेकिन मछलियों ने हंसते हुए कहा, ‘कई मछुआरे ऐसे आये जिसने हमे पकड़ने की कोशिश की हैं लेकिन कोई भी पकड़ नहीं पाया और यह दोनों आ रहे हैं हमे पकड़ने। मछलियां मजाक मजाक में बोलने लगी ‘आप हमारे चिंता न करे हमे कुछ नहीं होगा। “
अगली सुबह, मछुआरे आए और अपना जाल तालाक में फेंक दिया। जाल बहुत बड़ा और मजबूत था। बहुत जल्द सभी मछलियां जाल में पकड़ी गयी। मछलियों ने कहा, “अगर हम मगरमच्छ की बात सुनकर यहाँ से चले जाते तो हम इसके पकड़ में नहीं आते। वे केबल हमारी मदद करना चाहता था और हमने उसकी बात न मानकर गलती की अब हमे अपने अहंकार के लिए अपने जीबन के साथ भुगतान करना पड़ा।”

 

मछुआरों ने मछलियों को बाजार में ले गए और अच्छे लाभ के लिए उन्हें बेच दिए।

तो दोस्तों आप सबको यह कहानी“The Foolish Fish A Short Hindi Story” कैसी लगी वे आप निचे कमेंट के जरिये जरूर बताये और असेही मजेदार और नीति कहानियां पड़ने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे।
  • सांप और मेंढक | Saap Aur Mendhak Hindi Kahani
  • भगवान श्री कृष्ण की एक रोचक कहानी
  • कुबड़ा कानाई और चार भूत | Hindi Kahani
  • दो कुत्तों की तीर्थ यात्रा | Hindi Kahani
  • तीन भाई | Hindi Kahani
  • चालाक मिस्त्री की कहानी | Chalak Mistri Ki Kahani
Follow Me on Social Media

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *